Blog single photo

बल्ला रहा खामोश फिर भी धोनी के नाम हुई एक और बड़ी उपलब्धि

हेमिल्टन में खेले गये इस सीरीज के तीसरे और आखिरी टी-20 मैच में एमएस धोनी का बल्ला भले ही न चला और भारत ने सीरीज भी गबां दी फिर भी धोनी ने अपने नाम एक बड़ी उपलब्धि कर ली है।

न्यूज24 ब्यूरो हेमिलटन (10 फरवरी): हेमिल्टन में खेले गये इस सीरीज के तीसरे और आखिरी टी-20 मैच में एमएस धोनी का बल्ला भले ही न चला और भारत ने सीरीज भी गबां दी फिर भी धोनी ने अपने नाम एक बड़ी उपलब्धि कर ली है। धोनी जैसे ही इस मैच को खेलने उतरे वैसे ही उनके नाम टी-20 फॉरमेट में सबसे ज्यादा मैच खेलने का रिकॉर्ड दर्ज हो गया। वो टी-20 फॉरमेट में 300 मैच खेलने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज हैं। हालांकि उनके अलावा दुनिया के 12 अन्य बल्लेबाज और हैं जो 300 टी-20 खेल चुके हैं। धोनी ने अपने टी-20 करियर में 6136 रन बनाए हैं। उनका बल्लेबाजी औसत 38.35 का रहा है। इसमें 24 हाफ सेंचुरी दर्ज हैं। उनके बाद रोहित शर्मा दूसरे भारतीय बल्लेबाज हैं जो टी-20 फॉरमेट में अब तक 298 मैच खेल चुके हैं।वेस्ट इंडीज के धाकड़ ऑलराउंडर के शक्ल में पहचाने जाने वाले कायरन पोलार्ड ने अब तक सबसे ज्यादा 446 मैच खेले हैं और वो टी-20 फॉरमेट में पहले नंबर पर हैं। केपोलार्ड ने टी-20 फॉरमेट में में 8753 रन बनाए हैं। इसमें एक सेंचुरी और 43 हाफ सेंचुरी हैं।न्यू जीलैंड के खिलाफ तीसरे टी-20 मैच में धोनी का बल्ला कोई कमाल नहीं कर सका। वो एक छक्का जड़ने की कोशिश में कैच आउट हो गये। उस वक्त उनका निजी स्कोर मात्र दो रन था। क्रिकेट के पंडितों का कहना है कि धोनी का यह शॉट बाउंड्री पार कर जाता तो सीरीज भारत ही जीतता। हालांकि ऐसा वर्ल्ड कप से पहले धोनी के प्रदर्शन पर सभी की निगाहें हैं और वो अपने आलोचकों को समय 

समय पर अपने बल्ले से जवाब भी देते रहे हैं। आज के मैच में उनके बल्ले की खामोशी  से आलोचकों को एक बार फिर बोलने का मौका मिलेगा। हालांकि ऐसा कहा जारहा है कि इस मैच के परिणाम से धोनी करियर पर कोई आंच नहीं आने वाली है क्यों कि कप्तान और कोच वर्ल्ड कप टीम तय कर चुके हैं और उसमें धोनी की जगह पक्की है। 

Tags :

NEXT STORY
Top