अब तक का सबसे अजीबोगरीब घोटाला, उड़ाया करोड़ों का इनकम टैक्स रिटर्न का पैसा

वीरेश पांडे, लखनऊ (28 दिसंबर): अगर आपने इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल किया है और आप आयकर विभाग से रिटर्न के पैसों के मिलने का इंतजार कर रहे हैं तो ये खबर जरूर पढें। क्योंकि लखनऊ में एक अजीबोगरीब घोटाला समाने आया है। घोटालेबाजों ने सरकार और इनकम टैक्स देने वाले दोनों को चूना लगा दिया। फर्जी खाते खोलकर इनकम टैक्स रिटर्न के नाम पर करोड़ों रुपयों की हेराफेरी हो गई और किसी को भनक तक नहीं लगी।

जालसाजों ने फर्जी बैंक अकाउंट खुलवाने और आयकर रिटर्न दाखिल करके इन खातों में करोड़ों का रिफंड मंगवाया और फिर उसे हड़प कर गए। जालसाजों ने इस बार उन लोगों को निशाना बनाया जो बड़े आयकर दाता है। पहले ये शातिर उनके बारे में जानकारी हासिल करते थे, फिर उनका आयकर रिटर्न भर कर पैसे निकाल लेते थे। अभी तक पुलिस यह अंदाजा नहीं लगा पाई है कि मामला कितना बड़ा है, लेकिन पुलिस ने करीब सौ लोगों पर धारा 420 के तहत मुक़दमा दर्ज किया है।

लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में आयकर अधिकारी युवराज सिंह ने 100 लोगों के खिलाफ बड़े आयकरदाताओं के नाम से बैंक अकाउंट खोलकर आयकर विभाग में फर्जी दस्तावेज से रिटर्न दाखिल करके करोडों का रिफंड फर्जी तरह से वापस लेने के आरोप में जालसाजी करने का मामला दर्ज कराया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस को शक है कि इतनी बड़ी जालसाजी बिना आयकर विभाग के कर्मचारियों की मिलीभगत से नहीं हो सकती।

इस महाघोटाले में आयकर विभाग के कर्मचारियों, अधिकारियों और बैंककर्मियों की मिलीभगत की भी जांच की जा रही है। इस मामले के सामने आने के बाद आयकर विभाग में भी हड़कंप मचा हुआ है। एक महिला की शिकायत के बाद ये पूरा घोटाला सामने आया। ये महिला रिटर्न का इंतजार कर रही थी। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की बेवसाइट चेक करने पर उसे पता चला कि किसी दूसरे खाते में उसका रिटर्न भेज दिया गया है। महिला ने इसकी शिकायत की तो पूरा मामला खुला।

पुलिस का मानना है कि जालसाजों ने आयकर विभाग से साठगांठ करते हुए बड़े करदाताओं के बारे में जानकारियां जुटाईं। उसके बाद करदाताओं के नाम से विभिन्न बैंकों में फर्जी खाते खोले गए। रिटर्न भरने में इन्ही खाता नंबरों का उल्लेख किया गया और रिटर्न के पैसे जमा कराए गए।