इनकम टैक्स के रडार पर कोपरेटिव बैंक और उनके अकाउंट होल्डर

दीपक दूबे, मुंबई(29 दिसंबर): इनकम टैक्स के रडार पर कोपरेटिव बैंक और उनके अकाउंट होल्डर हैं। इनकम टैक्स ने अकाउंट होल्डर को नोटिस भेजा है।

- देश भर में छापेमारी के बाद अब इनकम टैक्स की नजर उन कोपरेटिव बैंक और उनके अकाउंट होल्डर पर है जिन्होंने नोटबंदी के बाद अपने बैंक अकाउंट में जरूरत से ज्यादा पैसों का ट्रांजेक्शन या लेनदेन किया है

- इनकम टैक्स के रडार पर नए तीन हजार से ज्यादा कोपरेटिव बैंक के अकाउंट होल्डर है जिनके बैंक अकाउंट इन कोपरेटिव बैंक में नोटबंदी के बाद खोले गए है, इनकम टैक्स विभाग की नजर मुम्बई व महाराष्ट्र के कोपरेटिव बैंक के साथ साथ गोवा के कोपरेटिव बैंको पर भी है।

- सबसे अहम इनकम टैक्स विभाग के सूत्रों के अनुसार इन नए बैंक खातों में 275 करोड़ रूपये जमा किये गए हैं।

- इनकम टैक्स विभाग ने 200 से ज्यादा ऐसे अकाउंट होल्डर को नोटिस भेज जानकारी मांगी है, इसका आंकड़ा और आने वाले समय में बढ़ सकता है।

- इन सभी बैंक खातों में नोटबंदी के नॉट को डिपॉजिट किया गया फिर उसी बैंक खाते से वो पैसे बड़ी मात्रा में आरटीजीएस के जरिये निकाले भी गए।  

- गौरतलब है की कोपरेटिव बैंक की कार्यप्रणली और मिलीभगत पर नोटबंदी के बाद सवाल भी खड़े हुए थे जो एक बार फिर जांच के घेरे में है।