इनकम टैक्स के निशाने पर 65 लाख लोग, कहीं इसमें आपका भी नाम तो नहीं

नई दिल्ली (30 अप्रैल): पिछले साल जिन लोगों ने अपना इनकम टैक्स फाइल नहीं किया था, ऐसे लोगों पर आयकर विभाग सख्ती के मूड में दिख रहा है। बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार इनकम टैक्स फाइल नहीं करने वाले 65 लाख से ज्यादा लोगों पर शिकंजा कसने की तैयारी है। वित्‍त मंत्रालय ऐसे लोगों को नोटिस भेजने की तैयारी में है जिन्होंने बीते वित्‍त वर्षों में रिटर्न फाइल नहीं किया है। जानकारी के मुताबिक नोटिस में रिटर्न न भरने का कारण पूछा जाएगा।

आपको बता दें कि विभाग ने हाल में कहा था कि रिटर्न फाइल करने वाले लोगों ने अगर जाने-अनजाने कोई जानकारी छुपाई है तो वह इसे संशोधित रिटर्न में सुधार सकते हैं। रिटर्न फाइल न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी जिन्होंने पूरी जानकारी नहीं दी है। इसके लिए आयकर विभाग अलग से पेनाल्टी भी लगा सकता है। आयकर विभाग ने साफ किया है कि आईटीआर में गड़बड़ी पाने का मामला अगर गंभीर होता है तो ऐसे लोगों को जेल भी जाना पड़ सकता है। विभाग ने कहा है कि अगर आपने अपने बैंक अकाउंट में बड़ी मात्रा में कैश जमा किया है या फिर हाई वैल्‍यू ट्रांजैक्‍शन किए हैं तो आपको रिवाइज्‍ड आईटीआर में उसकी जानकारी देनी होगी।

वित्‍त मंत्रालय का कहना है कि रिमाइंडर भेजे जाने के बाद भी अभी काफी करदाताओं ने रिटर्न नहीं भरा है। उन्‍हें मौजूदा वित्‍त वर्ष में टारगेट किया जाएगा। इसमें नॉन-फाइलर्स मैनेजमेंट सिस्टम (एनएमएस) मदद करेगा। इसके इस्तेमाल से आयकर विभाग को करदाता आधार बढ़ाने में पहले सफलता मिली है। बताया जा रहा है कि इस सिस्‍टम से वे लोग घेरे में आएंगे जिन्‍होंने नोटबंदी के दौरान 500 और 1000 रुपए के नोटों में 10 लाख या उससे ज्‍यादा जमा किया। इस वर्ग में तीन लाख लोग हैं जिनमें 2.1 लाख ने रिटर्न फाइल कर दिया है और करीब 6500 करोड़ रुपए टैक्‍स भरा है।