आयकर विभाग का खुलासा, 447 कंपनियों ने किया 3,200 करोड़ का टीडीएस घोटाला

नई दिल्ली ( 5 मार्च ): मुंबई में 447 कंपनियों ने 3200 करोड़ रुपए का टीडीएस घोटाला किया है। आयकर विभाग ने 3, 200 करोड़ रुपये के टीडीएस अनियमितता का खुलासा किया है। इस मामले में 447 कंपनियों ने अपने कर्मचारियों की सैलरी से टैक्स के पैसे काट लिए, लेकिन उसे आयकर विभाग में जमा करने की बजाए अपने कारोबार को आगे बढ़ाने में लगा दिया। इन कंपनियों में ज्यादातर रियल स्टेट, आईटी और एंटरटेनमेंट की कंपनियां हैं। आयकर विभाग ने कुछ कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। कुछ कंपनी मालिकों को वारंट भी जारी किया है।

सजा का प्रावधान कर्मचारियों के वेतन से टीडीएस काटकर उसे जमा नहीं करने पर आयकर अधिनियम के तहत 3 महीने के सश्रम कारावास की सजा, जबकि अधिकतम सात साल की सजा का प्रावधान है। ऐसे मामलों में अभियोजन की धारा 276 बी के तहत कार्रवाई शुरू की जाती है।

वहीं आयकर विभाग के सूत्रों के इसे घोटाला कहने से इनकार किया है। विभाग की मानें तो ये सिर्फ वेरिफिकेशन सर्वे का विवरण है, जो अप्रैल 2017 से मार्च 2018 के बीच किया गया है। इस तरह का सर्वे हर साल किया जाता है। ये वैसा ही मामला है, जिसमें कर्मचारी सैलरी से टीडीएस तो घटा लेते हैं, लेकिन वक्‍त पर टैक्‍स जमा नहीं करते।