पिछले तीन साल में खरीदी है महंगी कार, तो आप को पकड़ेगी सरकार!

नई दिल्ली ( 28 दिसंबर ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन पर बड़ी कार्रवाई करते हुए 500-1000 के नोटों पर बैन लगा दिया था। उसके बाद से आयकर विभाग और सीबीआई की कालेधन वालों के खिलाफ कार्रवाई जारी है। उसके बाद अब सरकार ने उनके खिलाफ बड़ी कार्रवाई करने जा रही है जो कालेधन को खपाने के लिए महंगी कारें खरीदी हैं।

इनकम टैक्स विभाग ने महाराष्ट्र के ट्रांसपोर्ट कमिश्नर डॉ,प्रवीण गेडाम को इनकम टैक्स ऐक्ट 1961 के सेक्शन 131 के तहत पत्र लिखकर जानकारी मांगी है कि वर्ष 2014-2015, 2015-2016 और 2016-2017 में कितने लोगों ने 50 लाख से ज़्यादा की कीमत की कार महाराष्ट्र के आरटीओ में रजिस्टर्ड करवाई है।

कार रजिस्टर्ड करवाने वालों की पूरी जानकारी इनकम टैक्स विभाग ने मांगी है, जिसमे कार खरीदने वाले का नाम,पूरा पता, कार खरीदने वाले के पैन कार्ड की जानकारी, कार का मॉडल, कार की क़ीमत,कार के पेमेंट का जरिया सब कुछ है। अगर पेमेंट संदिग्ध है तो फाइनेंशियल इंस्टिट्यूट की भी जानकारी मांगी है। खत मिलने के बाद 7 दिन के भीतर यह जानकारी इनकम टैक्स विभाग ने ट्रांसपोर्ट विभाग से मांगी है।

इस बारे में न्यूज़24 के संवादाता विनोद जगदाले ने ट्रांसपोर्ट कमिश्नर डॉ,प्रवीण गेडाम से मुलाक़ात की तब उन्होंने इनकम टैक्स द्वारा पत्र प्राप्त होने की बात कबूली लेकिन इस पत्र के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं शेयर की

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 8 नवम्बर को हुयी नोटबंदी के बाद मुंबई, पुणे,नासिक,नागपुरऔर औरंगाबाद में कई लोगो ने मेहेंगी लग्जरी कार खरीदी है।