रक्षा क्षेत्र में फ्रांस द्वारा दिए गए सहयोग का हम स्वागत करते हैं: पीएम मोदी

नई दिल्ली (10 मार्च): फ्रांस के राष्ट्रपति इमैलुएन मैकरॉन शुक्रवार देर रात अपने चार दिवसीय दौरे पर भारत पहुंच चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़ इमैलुएन मैकरॉन का स्वागत किया। शनिवार को राष्ट्रपति इमैलुएन मैकरॉन और उनकी पत्नी ने राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धाजंलि दी। 

इसके बाद हैदराबाद हाउस में दोनों देशों की द्विपक्षीय बैठक हुई जिसमें पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैकरॉन बैठक में मौजूद रहे। प्रतिनिधि स्तर की इस बैठक में आतंकवाद, रक्षा और हिंद महासागर में सहयोग बढ़ाने के साथ-साथ कई अहम मुद्दों पर 14 समझौते हुए।

इसके बाद पीएम मोदी और राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने साझा बयान जारी किया। सबसे पहले पीएम मोदी ने कहा कि हम मानते हैं कि हमारे द्विपक्षीय संबंधों के उज्जवल भविष्य के लिए सबसे महत्वपूर्ण आयाम है हमारे लोगों से सीधा संबंध। हम चाहते हैं कि हमारे युवा एक दूसरे के देश को जानें, एक दूसरे के देश को देखें, समझें, काम करें, ताकि हमारे संबंधों के लिए हजारों तैयार हो।

पीएम मोदी ने कहा कि फ्रांस और भारत की एक मंच पर उपस्थिति एक समावेशी, समृद्ध व शांतिमय विश्व के लिए एक सुनहरा संकेत है। पीएम ने रक्षा क्षेत्र में फ्रांस द्वारा दिए गए सहयोग के लिए फ्रांस का स्वागत किया। पीएम ने कहा कि आज वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए जो देश साथ-साथ चल सकते हैं वे हैं भारत और फ्रांस हैं। 

In the Defence sector we welcome investments from France under '#MakeInIndia': PM Narendra Modi pic.twitter.com/FDbzGFS2GG

— ANI (@ANI) March 10, 2018

इसके बाद राष्ट्रपति इमैलुएन मैकरॉन ने कहा कि हमारे भारत के साथ मजबूत ऐतिहासिक संबंध रहे हैं। इसके अलावा भारत और फ्रांस के बीच रक्षा क्षेत्र में भी मजबूत रिश्ते रहे हैं। मैक्रों ने जोर देते हुए कहा कि हम उग्रवाद और आतंकवाद के खिलाफ लड़ेंगे।