'पाकिस्तान - दुनिया की नज़र में परचूनिया की दूकान'

नई दिल्ली (22 फरवरी): गैट और डब्लूटीओ का फाउंडर मेम्बर होने के बावजूद पाकिस्तान की हैसियत दुनिया के सामने परचून की दूकान से ज्यादा नहीं है। ये हम नहीं कह रहे हैं बल्कि ये पाकिस्तानी अखाबर 'डॉन डॉट कॉम'के एक कॉलम में हसन ज़ाफरी ने कहा है। हसन ज़ाफरी पाकिस्तान के सियासी और तिजारती मामलों प बेबाक राय ज़ाहिर करने के लिए पहचाने जाते हैं।

उन्होंने अपने कॉलम में पाकिस्तान सरकार को कई सारे सुझाव दिये हैं। उन्होंने लिखा है कि प्रधानमंत्री नवाज शरीफ विदेश यात्राओं के साथ-साथ देश के भीतर पनप रही छोटी-छोटी समस्याओँ को हल करने पर भी ध्यान दें। उन्होंने पाकिस्तान के विश्व व्यापार पर भी सरकार को आइना दिखाया है। उन्होंने लिखा है कि देश बनने के बाद से आज तक पाकिस्तान विश्व व्यापार में मज़बूती से  दखल नहीं दे पाया है।

हसन ज़ाफरी ने लिखा है कि अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, कनाडा जैसे देशों की दोस्ती का फायदा भी नहीं उठा पाया। आज हालात बदले हुए हैं और अब इन देशों के साथ पाकिस्तान के पहले जैसे रिश्ते भी नहीं बचे हैं। उन्होंने लिखा है कि दुनिया के लोग पाकिस्तान को एक परचूनिये की निगाह से देखते है। जिसकी दूकान में  तौलिया, अण्डर वियर, बेडशीट, फुटबॉल जैसी चीज़ें ही मिल सकती हैं।