बिना आईडी प्रूफ के कर सकेंगे हवाई यात्रा!

नई दिल्ली(13 जुलाई): अब घरेलू उडानों में यात्रा के लिए एयरपोर्ट में एंट्री के लिए आपको आईडी प्रूफ की जरुरत नहीं होगी। इसके लिए देश के तमाम हवाईअड्डों के लिए सुरक्षा के मापदंड तैयार करने वाली एजेंसी ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्यॉरिटी (बीसीएएस), सिविल एविएशन मिनिस्ट्री के साथ मिलकर एक योजना पर काम कर रहा है।

शुरुआत में इसके लिए आधार कार्ड को लिंक किया जाएगा। बाद में कामयाबी मिलने पर यात्रियों को और भी विकल्प दिए जाएंगे। इसके बाद उन्हें एयरपोर्ट पर जाते वक्त घरेलू उड़ानों के लिए अपनी पहचान साबित करने के लिए वोटर कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस या इसी तरह का अन्य कोई सरकारी दस्तावेज अपने साथ ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

शुरुआत में सिस्टम ई-टिकट वालों के लिए तैयार कराया जा रहा है। एक अधिकारी के मुताबिक योजना बनाई जा रही है कि ई-टिकट बुक कराते वक्त ही यात्रियों को यह ऑप्शन दिया जाएगा। उसमें वह अपने आधार कार्ड का यूनिक नंबर फीड कर देंगे फिर जब वह पैसेंजर एयरपोर्ट पर अपनी फ्लाइट पकड़ने के लिए जाएगा। तब वहां सुरक्षा एजेंसी के जवान फोटो आईडी कार्ड ना मांगकर उससे आधार नंबर पूछेंगे। उस नंबर को अपने सिस्टम में डालते ही उक्त पैसेंजर के आधार की डिटेल सुरक्षा एजेंसी के सामने होगी। ऐसे में कोई इसका मिसयूज भी नहीं कर सकेगा।

पैसेंजर फ्रेंडली इस सिस्टम में एक सुविधा यह भी जोड़ने पर विचार किया जा रहा है कि एयरपोर्ट पर यात्रियों की भीड़ अधिक ना लगे। इसके लिए ऐसे यात्रियों की बायोमीट्रिक एंट्री करानी शुरू कर दी जाए जिन्होंने टिकट बुक कराते वक्त अपने आधार कार्ड का नंबर दिया था। इस तरह से एयरपोर्ट के एंट्री गेट पर लगी बायोमीट्रिक मशीनों में यात्री जैसे ही अपनी बायोमीट्रिक पहचान साबित करेंगे, वैसे ही उनके स्वागत के लिए गेट ओपन हो जाएंगे। बताया जाता है कि यह सुविधा दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर सबसे पहले शुरू की जाएगी।

अधिकारी का यह भी कहना है कि आधार के बाद कुछ और आईडी प्रूफ को भी सिस्टम में फीड किया जा सकता है। यह ऐसे लोगों के लिए होगा जिनके फिलहाल आधार कार्ड नहीं बना सके हैं। अगर ऐसे यात्री ई-टिकट के साथ बिना आईडी कैरी किए डोमेस्टिक फ्लाइट पकड़ना चाहते हैं तो उनके लिए कुछ और आईडी कार्ड के विकल्प दिए जाएंगे। इनमें वोटर कार्ड और ड्राइविंग लाइसेंस सहित 10 से अधिक तरह के सरकारी दस्तावेज होंगे। इंटरनैशनल फ्लाइट के लिए यह सिस्टम काम नहीं करेगा, क्योंकि उनके लिए पासपोर्ट जरूरी होता है और वह अपने आप में ही पहचान साबित करने वाले दस्तावेजों में से एक है।