पाकिस्तानी राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में शामिल हुआ पहला सिख खिलाड़ी

नई दिल्ली ( 28 दिसंबर ): पाकिस्तान क्रिकेट टीम में ईसाई और हिंदु धर्म के लोग भी खेल चुके हैं लेकिन पहली बार एक सिख खिलाड़ी इस देश की राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में जगह बनाने में कामयाब हुआ है।

पाकिस्तान क्रिकेट टीम में ईसाई और हिंदु धर्म के लोग भी खेल चुके हैं लेकिन पहली बार एक सिख खिलाड़ी इस देश की राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में जगह बनाने में कामयाब हुआ है। पाकिस्तान के समाचार चैनल जियो न्यूज के मुताबिक लाहौर के ननकाना साहिब के निवासी महिंद्र पाल सिंह को देश के 30 उभरते युवा खिलाड़ियों की सूची में जगह मिली है।

उन्हें पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) द्वारा आयोजित तेज गेंदबाजों के शिविर में चुना गया है। केवल 21 साल के महिंदर को पाकिस्‍तान का भविष्‍य का खिलाड़ी माना जा रहा हैं। पाकिस्‍तान के पूर्व क्रिकेटर मुदस्‍सर नजर और पीसीबी प्रमुख शहरयार खान युवा महिंदर की प्रतिभा को खास मानते हैं। क्रिकेट के जानकारों को उम्‍मीद है कि जल्‍द ही यह क्रिकेटर पाकिस्‍तान का प्रतिनिधित्‍व करने वाला पहला सिख बन सकता है। गौरतलब है कि इससे पहले पाकिस्‍तान की आर्मी में शामिल पहले सिख बनकर हरचरण सिंह भी दुनियाभर के मीडिया के खबरों के केंद्र बने थे।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो में सिंह ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के चेयरमैन का शुक्रिया अदा किया है। साथ ही उन्होंने वीडियो में पाकिस्तान के लिए कुछ करने की इच्छा जाहिर की है। सिंह ने कहा है कि वह पाकिस्तान के पूरे सिख समुदाय का प्रतिनिधित्व करने पर गर्व महसूस कर रहे हैं। पाकिस्तान के क्रिकेट इतिहास में देश का प्रतिनिधत्व करने वाले सिर्फ सात ही खिलाड़ी ऐसे रहे हैं, जो मुस्लिम समुदाय के नहीं थे।