'कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए नवाज शरीफ ने ओसामा से लिया था पैसा'

नई दिल्ली ( 10 मई ): पूर्व क्रिकेटर और पाकिस्तान के विपक्षी नेता इमरान खान की पार्टी ने आरोप लगाया है कि कश्मीर में जिहाद को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री नवीज शरीफ ने आतंकवादी ओसामा बिन लादेन से धन लिया था। आरोप है कि उसके बाद नवाज ने उस पैसे का उपयोग 1989 में तत्कालीन बेनजीर भुट्टो सरकार के खिलाफ भी इस्तेमाल किया था।


इंटरव्यू और किताब में कहा गया है कि नवाज शरीफ ने लादेन से लगभग 1.5 अरब रुपये की मदद ली थी जिसका उपयोग उन्होंने कश्मीर और अफगानिस्तान के इलाकों में जिहाद फैलाने के लिए किया था।



तहरीक-ए-इंसाफ ने यह आरोप कुछ इंटरव्यू और एक किताब के आधार पर लगाए हैं। कहा जा रहा है कि तहरीक-ए-इंसाफ इस मुद्दे को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर कर सकती है। पार्टी ने कहा कि उन्होंने 'खालिद ख्वाजा: शहीद-ए-अमन' के आधार पर यह आरोप लगाए हैं।


खबर के मुताबिक पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के प्रवक्ता फवाद चौधरी ने कहा, 'पाकिस्तान में लोकतंत्र के खिलाफ साजिश और अस्थिरता पैदा करने को लेकर विदेशी शख्स से धन लेने के लिए शरीफ के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग को लेकर वह उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर करेंगे।'


चौधरी ने कहा, "पहले भी शरीफ का नाम चुनी गई सरकारों के खिलाफ साजिश रचने में सामने आ चुका है। उन्होंने इस साजिश में अहम किरदार निभाया था। तहरीक-ए-इंसाफ ने शरीफ के खिलाफ एक और पिटीशन फाइल करने का एलान किया था। जिसमें तहरीक-ए-इंसाफ सुप्रीम कोर्ट से 2012 के असगर खान केस पर दिए गए फैसले को लागू करने की अपील करेगी। जिसमें कहा गया था कि 1990 के जनरल इलेक्शन में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी को जीत से रोकने के लिए नवाज और दूसरे पॉलिटिकल लीडर्स को पैसे दिए गए थे। तहरीक-ए-इंसाफने  कहा कि वो इसी हफ्ते नवाज के खिलाफ दो केस फाइल करेगी।


यह किताब शमामा खालिद के द्वारा लिखी गई है। शमामा पूर्व आईएसआई स्पाई खालिद ख्वाजा की पत्नी हैं। खालिद ख्वाजा की हत्या 2010 में पाकिस्तानी तालिबान के जरिये की गई थी।