आज हुई थी सेना आजाद, फील्ड मार्शल के.एम.करिअप्पा बने थे पहले आर्मी चीफ

नई दिल्ली(15 जनवरी): सोमवार को भारत में 70वां सेना दिवस मनाया जा रहा है। आज ही के दिन 1949 में भारतीय सेना पूरी तरह ब्रिटिश सेना से आज़ाद हो गई थी और फील्ड मार्शल के एम करिअप्पा आज़ाद भारत के पहले सेना प्रमुख बने थे। इससे पहले ब्रिटिश मूल के फ़्रॉन्सिस बूचर बतौर सेना प्रमुख थे। 

-इस दिन थल सेना अपनी शक्ति का प्रदर्शन करती है और प्रथम भारतीय सेनाध्यक्ष के.एम. करिअप्पा के पद ग्रहण उपलक्ष्य को बड़े धूमधाम से मनाती है। 

-करिअप्पा ने 1947 के भारत-पाक युद्ध में भारतीय सेना का नेतृत्व किया था। कर्नाटक में जन्में करिअप्पा के प्रथम सेनाध्यक्ष बनने के उपलक्ष्य में 15 जनवरी को सेना दिवस के रूप में मनाया जाता है।

-बता दें कि साल 1949 में भारतीय थल सेना में करीब 2 लाख सैनिक थे, जबकि आज वो संख्या 13 लाख से भी ज्यादा है। 

-भारतीय सेना के जवानों (भारतीय सेना बैंड्स) द्वारा सेना दिवस उत्सव के दौरान सेना दिवस परेड प्रस्तुत किया जाता है जिसके तहत बीएलटी टी-72, टी-90 टैंक, ब्रह्मोज मिसाइल, कैरियर मोटार्र ट्रैक्ड वैहिकिल, 155 एमएम सोलटम गन, सेना विमानन दल का उन्नत प्रकाश हेलिकॉप्टर इत्यादि का प्रदर्शन किया जाता है

-भारतीय सेना में सैनिक अपनी सेवा को कायम रखने और राष्ट्र को सुरक्षित रखने के लिये कसम खाते हैं और किसी भी दुश्मन का डट कर सामना करते हैं फिर चाहे वो घरेलू या बाहरी कोई भी दुश्मन हो।