दुनिया की सबसे वजनी महिला को ले जाया गया अबू-धाबी

अविनाश पांडे, मुंबई (4 मई): विवादों के बीच दुनिया की सबसे मोटी महिला रही ईमान अहमद ने मुंबई छोड़ दिया है। बताया जा रहा है कि ईमान अहमद को अबू-धाबी ले जाया जा सकता है। इसके पहले ईमान अहमद की जांच के लिए विदेशों से डॉक्टरों का एक दल मुंबई पहुंचा था, जिसके बाद ईमान को आगे के इलाज के लिए मुंबई से बाहर ले जाने का फैसला किया गया।


इमान अहमद के इलाज में जुटे डॉक्टरों का दावा है कि मुंबई के सैफी अस्पताल में इलाज के बाद ईमान का वजन काफी कम हुआ है और उनकी सेहत पहले से काफी बेहतर हैं। हिंदुस्तान आने से पहले मिस्र की इमान अहमद अब्दुलाती का वजन करीब 500 किलोग्राम था। 36 साल की ईमान 25 साल से अलेक्जेंड्रिया में अपने घर से बाहर नहीं निकली थीं।


ईमान अहमद को मुंबई लाने के लिए खास इंतजाम करने पड़े थे, उन्हें विशेष विमान से मुंबई लाया गया था। विशेष ट्रक से उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया। अस्पताल में भी उनके भारी वजन को देखते हुए एक खास बेड बनाया गया था।


- जन्म के समय ही ईमान का वजन 5 किलोग्राम था।

- डॉक्टरों ने उन्हें एलिफेंटाइसिस से पीड़ित बताया।

- इस बीमारी में शरीर में पानी जमा हो जाता है।

- इसी वजह से ईमान का वजन लगातार बढ़ रहा था।


11 साल की उम्र तक इस महिला के लिए भारी वजन की वजह से उठना और चलना फिरना भी मुश्किल हो गया। उन्हें स्कूल भी छोड़ना पड़ा। इसके बाद वे पूरी तरह से बिस्तर पर रहने लगी। मिस्त्र से हिंदुस्तान लाए जाने के बाद मुंबई के बैरिएट्रिक सर्जन मुफ्फजल लकड़ावाला और उनकी टीम के डॉक्टरों की निगरानी में पिछले 3 महीनों से उनका इलाज चल रहा था। हालांकि मुंबई में इलाज के बाद भी ईमान को बिस्तर से उठने और चलने फिरने में काफी वक्त लग सकता है।