'व्यभिचारी औरतों को पत्थरों से मारने' का उपदेश

नई दिल्ली (1 मार्च): डेनमार्क में एक इमाम की तरफ से दिए गए विवादास्पद बयान का वीडियो सार्वजनिक होने के बाद लोगों के बीच काफी नाराजगी फैल गई है। इस वीडियो में इमाम उपदेश देते हुआ सुनाई दे रहा है, कि व्यभिचार (एडल्ट्री) करने पर एक महिला को पत्थरों से पीटकर मार डालना चाहिए।

'मेलऑनलाइन' की रिपोर्ट के मुताबिक, इमाम अबू बिलाल इस्माइल की गोपनीय तरीके से एक लेक्चर देने के दौरान वीडियोग्राफी कर ली गई थी। यह लेक्चर धोखा देने वाली पत्नियों और गर्लफ्रैंड्स के लिए उपयुक्त सज़ा के विषय पर था। जो आरहस शहर के ग्रिमहोज मस्जिद में दिया जा रहा था।

स्थानीय टीवी पर ब्रॉडकास्ट में इस्माइल कहता है, "अगर एक शादीशुदा या तलाकशुदा महिला व्यभिचार में शामिल होती है और वह 'वर्जिन' नहीं है, तो उसे पत्थरों से मारकर जान से मार डालना चाहिए।" इमाम कहता है, "अगर कोई अपने निकाह के उल्लंघन में कुछ करता है, भले वह मर्द हो या औरत, वे व्यभिचार करते हैं और इसलिए उनका खून हलाल है। इसलिए उन्हें पत्थरों से मार डालना चाहिए।"

वह कहता है, कि अगर महिला कुंवारी है, तो उसे कोड़े मारे जाने चाहिए। रिपोर्ट के मुताबिक, सोशल डेमोक्रैट्स के प्रवक्ता डैन जॉर्जेन्शन ने टीवी2 से कहा, "यह बिल्कुल ही अस्वीकार्य है। ऐसे विचार रखने वाले लोग और ऐसे विचार पागलपन हैं।" इस वीडियो के सार्वजनिक होने के बाद लोग दानिश मस्जिद को बंद किए जाने की मांग कर रहे हैं।

हालांकि, मस्जिद के प्रवक्ता अल-सादी ने कहा, "हम इस्लाम में भरोसा करते हैं, जैसा ये है, लेकिन जैसा कि हमारे इमाम कहते हैं, हम डेनमार्क में रहते हैं। जहां स्वतंत्रता है। हम दानिश कानून मानते हैं। इसलिए पत्थर और कोड़े मारना डेनमार्क में वैध नहीं हैं।"