संकट गहरायाः कोलकाता के डॉक्टर्स के समर्थन में IMA भी 17 को हड़ताल पर

Doctors Strike

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (16 जून): इंडियन मेडिकल असोसिएशन ने  कहा है कि वो पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टरों के साथ हुई हिंसा के विरोध में सोमवार को हड़ताल पर रहेंगे। आईएमए ने कहा कि आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर सभी तरह का काम बंद रहेगा। आईएमए की तरफ से यह ऐलान तब किया गया, जब एक दिन पहले ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने राज्यों से डॉक्टरों और मेडिकल प्रफेशन से जुड़े लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा था।  देश की सबसे बड़ी मेडिकल संस्था आईएमए ने मांग की है कि केंद्रीय स्तर पर डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए कानून बनाना चाहिए। आईएमए की मांग है कि डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए कदम उठाए जाने चाहिए।आईएमए ने कहा कि कानून में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा करने करने वालों को उदाहरण प्रस्तुत करने लायक सजा मिलनी चाहिए। इाके लिए आईपीसी और सीपीसी कमें बदलाव किए जाने चाहिए। आईएमए ने कहा कि 24 घंटे (सोमवार सुबह 6 बजे से मंगलवार सुबह 6 बजे तक) के लिए आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर सभी तरह की सर्विस बंद रहेगी। हड़ताल के दौरान आपातकाल सेवाएं जारी रहेंगी। आईएमए ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को भी पत्र लिखकर डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा को रोकने के लिए कानून लाने की मांग की थी।उधर, पश्चिम बंगाल में हड़ताल कर रहे डॉक्टर सीएम ममता बनर्जी से मिलने के लिए तैयार हो गए हैं। जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि वे जनता के हित में सीएम से बात करने के लिए तैयार हुए हैं। डॉक्टरों का कहना है कि वे बातचीत के लिए तैयार तो हो गए हैं, लेकिन यह सब कुछ बंद कमरे में नहीं होगा। डॉक्टर्स मीडिया की मौजूदगी में सीएम से बात करना चाहते हैं। इससे पहले शुक्रवार और शनिवार को डॉक्टरों ने सीएम से मुलाकात के निमंत्रण को ठुकरा दिया था। उनका कहना था कि इस मीटिंग को लेकर डॉक्टरों में काफी डर है, इस कारण उनका कोई प्रतिनिधि सीएम से बात करने राज्य के सचिवालय में नहीं जाएगा। डॉक्टरों की मांग थी कि सीएम को एनआरएस मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल आकर डॉक्टरों से बात करनी चाहिए। Image Courtesy:Google