हटाए गए मंत्री ने कहा- 'क्या हम चप्पल हैं, जो इस्तेमाल किया और फेंक दिया'

बेंगलुरु (21 जून) :  अभिनेता से नेता बने अंबरीश ने कर्नाटक विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा भेज दिया है। अंबरीश ने ये फैसला खुद को कर्नाटक मंत्रिमंडल से हटाए जाने के विरोध में लिया। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने रविवार को मंत्रिमंडल में फेरबदल के दौरान 14 मंत्रियों को हटा दिया था और 13 नए चेहरों को मंत्री बनाया था। छुट्टी किए गए मंत्रियों में अंबरीश का भी नाम शामिल था। अंबरीश ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा है कि क्या हम चप्पल हैं, जिन्हें इस्तेमाल किया और फेंक दिया।

अंबरीश ने कहा, 'हमें सम्मानजनक ढंग से हटाया जाना चाहिए था, मेरी आपत्ति बस इतनी सी है और कुछ नहीं। क्या हम चप्पल हैं, जिसे इस्तेमाल किया और फेंक दिया।'  कर्नाटक में इस फेरबदल के बाद सत्तारूढ़ कांग्रेस में असंतोष के सुर तेज़ होने की संभावना बन गई है।

अंबरीश ने कहा कि उनके साथ मुख्यमंत्री ने सही व्यवहार नहीं किया। अंबरीश के मुताबिक मुख्यमंत्री ने उन्हें हटाए जाने की सूचना तक नहीं दी। अंबरीश ने कहा कि क्या ये तानाशाही है या हिटलर का राज है कि मंत्रियों को इस तरह फेंक दिया जाए।    

कर्नाटक में 2018 में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में सरकार की छवि को चमकाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री ने मंत्रिमंडल में फेरबदल का फैसला किया। बताया जाता है कि मुख्यमंत्री ने इसके लिए कांग्रेस हाईकमान से अनुमति ली।

अंबरीश ने सोमवार को कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष को एक पंक्ति का इस्तीफ़ा भेजकर विधानसभा की सदस्यता छोड़ने की बात कही थी। अभी अध्यक्ष को इस पर फैसला लेना है।