सरहद के पास बीकानेर में अवैध खनन ने सुरक्षा एजेंसियों की उड़ाई नींद

बीकानेर (14 फरवरी): राजस्थान के बीकानेर के पास के बॉर्डर एरिया में चल रहे खनन ने बीएसएफ और दूसरी सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ा दी है। बीएसएफ ने बकायदा सरकार को चिट्ठी लिखकर अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास खनन के लिए लीज़ देने पर कड़ा एतराज जताया है। सुरक्षा एजेंसियों को आशंका है कि खनन वाले इलाकों में आसानी से सुरंग बनाकर देश की सीमा में घुसा जा सकता है जो कि सुरक्षा के लिहाज से बेहद खतरनाक है। दिन भरा यहां गाड़ियों का आना जाना लगा रहता है।

जिप्सम माफिया के पास टैंक की तरह किसी भी गड्ढे और विषम भौगोलिक स्थिति में आगे बढऩे में सक्षम मशीनें हैं जिनके लिए सुरंग बनाना कोई मुश्किल काम नहीं है। बॉर्डर एरिया के थानों की पुलिस ने छह महीने में ऐसी 10 मशीनों और 50 वाहनों पर कार्रवाई भी की है। खान मालिकों ने खनन के लिए पट्टे पर दी गई जमीनों के अलावा भी आसपास की जमीनों पर कब्जा करना शुरु कर दिया है। खानों तक पहुंचना भी सेना के लिए बड़ी चुनौती है क्योंकि यहां पर खनन के लिए बड़ी-बड़ी खाई खोद दी गई हैं जो मजदूर यहां खनन के काम के लिए लगाए गए ज्यादातर बाहरी राज्यों से हैं। खानों में काम रहे लोगों के सत्यापन में भी लापरवाही बरती जाती है।