इंसानों की तरह बात करतीं हैं इस मंदिर की मूर्तियां, साइंस ने भी हार मानी!

नई दिल्ली (7 मार्च): आज विज्ञान धर्म की जड़ें खोदने की कोशिश कर रहा है। हर रोज नए तर्क गढ़े जारहे हैं और नए तथ्य रखे जा रहे हैं। इन सबके बीच कुछ ऐसा भी है जहां आकर विज्ञान हार जाता है और सिर्फ विश्वास जमा रहता है। बिहार का राज राजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी मंदिर भी इसी में से है। ऐसा लगता है मानो इस मंदिर की मूर्तियां साक्षात इंसानों की तरह बातें करती हैं। मध्य-रात्रि में जब लोग यहां से गुजरते हैं तो उन्हें आवाजें सुनाई पड़ती हैं। 

कुछ लोगों को यह पहले वहम लगता था लेकिन अब वैज्ञानिकों ने भी मान लिया है कि मंदिर परिसर में किसी के भी नहीं होने पर शब्द गूंजते रहते हैं।वैज्ञानिकों के रिसर्च के अनुसार, यहां किसी के भी नहीं होने पर शब्द तैरते रहते हैं। इस मंदिर की स्थापना लगभग 400 वर्ष पहले की गई थी। इस मंदिर में कलश स्थापना का विधान नहीं है। तंत्र साधना से ही यहां मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की गई है।