CISCE ने 10 वीं और 12 वीं पास होने के लिए जरूरी प्रतिशत में किया बदलाव

cisce, icse, isc, icse pass marks, isc pass marks, icse date sheet, icse exams, board exams, education news, indian express

नई दिल्ली (28 नवंबर): बोर्ड की परीक्षा को कुछ महीने अब बचे हैं। उससे पहले काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) ने परीक्षाओं में पास होने के लिए जरूरी प्रतिशत में बदलाव किए हैं। नए नियम के मुताबिक, आईसीएसई परीक्षा या कक्षा 10 के लिए पास अंक 33% होगा और आईएससी परीक्षा या कक्षा 12 के लिए पास अंक 35% होगा। सीआईएससीई ने देश के अन्य बोर्डों को भी इन बदलावों को मानने के लिए कहा है। इन बदलावों को शैक्षणिक वर्ष 2019 से लागू करने का निर्णय लिया है।

सभी काउंसिल संबद्ध स्कूलों के प्रमुखों को संबोधित एक आधिकारिक पत्र में, मुख्य कार्यकारी और सचिव गेरी अराथून ने शैक्षणिक वर्ष 2018-2019 में होने वाली इंटरनल परीक्षाओं में भी इस नियम को फॉलो करने का निर्देश दिया है।

काउंसिल ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार के साथ देश के अन्य परीक्षा बोर्डों के साथ कई बैठकों में भाग लिया। काउंसिल को विभिन्न परीक्षाओं से संबंधित मुद्दों पर चर्चा और उसके हिसाब से सिफारिशें लागू करने के लिए इंटर बोर्ड वर्किंग ग्रुप (आईबीडब्ल्यूजी) का सदस्य बनने के लिए भी नामित किया गया था।

इंटर बोर्ड वर्किंग ग्रुप (आईबीडब्ल्यूजी) द्वारा बनाई गई कई सिफारिशों में, यह सुझाव दिया गया था कि देश के सभी बोर्डों में पास होने के के लिए एक ही मानदंड होना चाहिए. इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए, काउंसिल ने अपना पास होने का मानदंड बदलने का फैसला किया। इस फैसले का उद्देश्य देश के अन्य बोर्डों के साथ घनिष्ठ समानता लाना है।