चैंपियंस ट्रॉफी में पांड्या को रन आउट कराने के बाद जडेजा ने तो़ड़ी चुप्पी

नई दिल्ली(14 जुलाई): फैंस को अब भी चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल में हार्दिक पांड्या का रन आउट याद होगा। क्रिकेट प्रेमी आज भी उस रन आउट का गुनाहगार रविंद्र जडेजा को ही मानते हैं। इस पूरे वाक्या पर अब जडेजा ने पहली बार बोला है।

- जडेजा का मानना है कि ये सारी चीजें क्रिकेट के खेल का हिस्सा होती हैं। जडेजा ने कहा, ”क्रिकेट को नजदीक से जानने वाले ये बात अच्छे से जानते हैं कि ये सब क्रिकेट का हिस्सा है। कोई भी खिलाड़ी किसी को जानबूझकर रन आउट नहीं कराता। हर कोई अपने देश के लिए खेलना चाहता है, हर किसी के सपने होते हैं।”

- जडेजा ने आगे कहा, ”क्रिकेट के खेल में 100 बार रन आउट होते हैं। मैं इसके बारे में ज्यादा नहीं सोचता। आलोचक तो कुछ भी कहते रहते हैं। आलोचकों के सुर हर सीरीज के बाद बदलते रहते हैं। मैं उनके लिए नहीं खेलता।”

- बता दें कि कुछ दिन पहले हार्दिक पांड्या ने भी इस मामले में पहली बार बयान दिया था और कहा था, ”रन आउट के दर्द से उबरने में मुझे लगभग 3 मिनट लगे थे। मुझे जल्दी गुस्सा आ जाता है और चला भी जाता है। रन आउट होने के कुछ पलों के बाद मैं ड्रेसिंग रूम में हंसी-मजाक कर रहा था। मुझे देखकर दूसरे खिलाड़ी भी जमकर हंस रहे थे।”

- बता दें आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत शर्मनाक हार की ओर बढ रहा था, लेकिन पांड्या अकेले दम पर मैच का रुख पलटते दिख रहे थे।

- पांड्या ने 43 गेंदों में धमाकेदार 76 रनों की पारी खेली थी। हालांकि इसी बीच वो रन आउट हो गए।