'जिन IAS अधिकारियों को सरकार से दिक्कत हो वो दिल्ली छोड़ दें'

नई दिल्ली (1 जनवरी): दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को उनकी सरकार से असंतुष्ट भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारियों पर हमला बोला। उन्होंने कहा, ''जिन भी आईएएस अधिकारियों को उनकी सरकार से समस्या हो, वे दिल्ली छोड़ दें।''

'हिंदुस्तान टाइम्स' रिपोर्ट के मुताबिक, केजरीवाल ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा, "सरकार सर्वोपरि है। नौकरशाहों की हुड़दंगई दिल्ली में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। आईएएस अधिकारियों ने राजनीति खेली है। हम उनकी गुंडई बर्दाश्त नहीं करेंगे। जिन आईएएस अधिकारियों को हमारी सरकार से समस्या है, वे दिल्ली छोड़ दें।" 

कई आईएएस अधिकारियों को निलंबित कर चुकी है दिल्ली सरकार

इससे पहले दिल्ली सरकार ने विशेष सचिव (कारागार) सुभाष चंद्रा, और विशेष सचिव (अभियोजन) यशपाल गर्ग को इसलिए निलंबित कर दिया। इसके पीछे कारण बताया गया कि दोनों आईएएस अधिकारियों ने लोक अभियोजकों और कारागार कर्मियों के वेतन वृद्धि से संबंधित मंत्रिमंडल के दो दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया था। दोनों अधिकारियों का कहना था कि इस आदेश को एलजी कार्यालय से मंजूरी नहीं मिली। दिल्ली सरकार के इस आदेश के बाद दानिक्स (दिल्ली, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह लोकसेवा) काडर से संबंधित अधिकारियों ने हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया। चंद्रा और गर्ग इसी काडर से संबंधित हैं।

दूसरी तरफ केंद्र सरकार ने दोनों अधिकारियों के निलंबन को अवैध घोषित कर दिया। दिल्ली सरकार ने इसके पहले तीन अधिकारियों को तब निलंबित कर दिया था, जब वे ढहाई गईं झुग्गियों में राहत सामग्री मुहैया नहीं करा पाए। इसके अलाला तीन अधिकारी उस समय निलंबित किए गए, जब ऑटो-परमिट घोटाला सामने आया।