36 राफेल विमानों का अतिरिक्त बेड़ा चाहती है वायुसेना

नई दिल्ली (26 अगस्त): भारतीय वायु सेना अपने लड़ाकू विमानों के बेड़े में 36 और राफेल विमान जोड़ना चाहती है। पांचवी पीढ़ी के लड़ाकू विमानों में फ्रांस निर्मित राफेल को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ लड़ाकू विमान माना गया है। भारतीय वायुसेना इस विमाने को इसलिए भी लेना चाहती है, क्यों कि  दुश्मन देशों के पास राफेल से मुकाबला लेने वाले विमान नहीं हैं। चीन और पाकिस्तान राफेल के नाम से खौफ खाते हैं।

हालांकि, पांचवी पीढ़ी के विमानों के लिए रूस के साथ भी भारत का करार हुआ है। रूस में बने लड़ाकू विमानों का कोई तोड़ नहीं है, लेकिन वो राफेल के मुकाबले मंहगे साबित होंगे। भारतीय वायु सेना को राफेल जैसे 126 लड़ाकू जहाजों की आवश्यकता है। इसके अलावा आपातकालीन युद्धक परिस्थितियों से निपटने के लिए एक स्क्वैडर्न में 42 से 44 लड़ाकू विमानों की आवश्यकता होती है, जबकि भारतीय वायुसेना के पास एक स्क्वैडर्न में मात्र 33-34 विमान ही हैं।