'किरण रंधावा' और 'महिमा पटेल' के चक्कर में फंसा वायुसेना का ग्रुप कैप्टन, पाकिस्तान को दे दी गोपनीय जानकारियां

नई दिल्ली(9 फरवरी): दिल्ली में एयरफोर्स के एक ग्रुप अरुण मारवाह  को गिरफ्तार किया गया है। इस अफसर पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने और उसे गोपनीय दस्तावेज मुहैया कराने का आरोप है। आरोपी दिल्ली में वायुसेना मुख्यालय में ग्रुप कैप्टन के पद पर तैनात थे। ग्रुप कैप्टन को ऑफीशियल सीक्रेट एक्ट के तहत गिरप्तार किया गया है। बताया जा रहा है कि आरोपी को आईएसआई ने हनी ट्रैप के जरिए अपने जाल में फंसाया। सूत्रों के मुताबिक वायुसेना मुख्यालय में तैनात रहे ग्रुप कैप्टन को काउंटर इंटेलिजेंस विंग की ओर से करीब 10 दिनों तक की गई पूछताछ के बाद दिल्ली पुलिस को सौंप दिया गया।  गुरुवार को उसे कोर्ट में पेश किया गया। आरोपी को पांच दिन के लिए रिमांड पर भेज दिया गया है जहां से रिमांड हासिल कर पुलिस की स्पेशल सेल उससे पूछताछ में जुटी है।

दिल्ली स्थित वायुसेना मुख्यालय में स्मार्ट फोन ले जाना मना है। कुछ उच्चाधिकारियों को ही स्मार्ट फोन अंदर ले जाने दिया जाता है। आरोपी अरुण मारवाह चूंकि ग्रुप कैप्टन था, इसलिए उस पर स्मार्टफोन मुख्यालय के अंदर ले जाने पर कोई रोक नहीं थी।

मारवाहा ने अपनी वरिष्ठता का इस्तेमाल किया और मुख्यालय के अंदर हमेशा अपना स्मार्ट फोन ले जाता। मारवाह ने अपने स्मार्ट फोन के जरिए ही खुफिया दस्तावेजों की तस्वीरें खींचीं और बाद में व्हाट्सऐप के जरिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के एजेंट को भेजीं।

मारवाह ने पूछताछ के दौरान हनी ट्रैप का शिकार होने की बात भी स्वीकार कर ली। उसने बताया कि करीब छह महीने पहले उसकी फेसबुक पर दो महिलाओं से दोस्ती हुई और उनसे बातचीत होने लगी।

बाद में कथित युवती मारवाह से व्हाट्सऐप और अन्य सोशल प्लेटफॉर्म के जरिए चैट करने लगी। दोनों के बीच अश्लील चैट होने लगीं। दोनों एक दूसरे को अश्लील मैसेज भेजते थे। जानकारी के मुताबिक, दोनों के बीच करीब सप्ताह भर से अधिक समय तक सेक्स चैट का यह सिलसिला चला।

मारवाह ने बताया कि करीब छह महीने पहले उनकी फेसबुक पर दो महिलाओं से दोस्ती हुई। फेसबुक पर मारवाह ने किरण रंधावा और महिमा पटेल प्रोफाइल नेम वाली महिलाओं से दोस्ती गांठी। लेकिन जांच में पता चला कि दोनों ही फेसबुक अकाउंट फर्जी हैं और दोनों ही फेसबुक अकाउंट कोई एक ही व्यक्ति मैनेज करता है।

मारवाह ने दोनों महिलाओं की फ्रैंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली। इसके बाद उनके बीच शुरुआत में सिर्फ लाइक्स और छोटे-मोटे कमेंट जैसे ही संवाद होते रहे। कुछ समय बीत जाने के बाद दोनों फेक अकाउंट्स से मारवाह को लुभाने वाले मैसेज आने लगे।