तमिलनाडु के मुख्य सचिव के घर के बाद आॅफिस पर भी छापा, 18 लाख के नए नोट और 10 किलो सोना बरामद

नई दिल्ली ( 21 दिसंबर ): तमिलनाडु के सबे बड़े नौकरशाह और मुख्यसचिव राम मोहन राव के घर और दूसरे ठिकानों पर आयकर विभाग ने छापा मारा है। पिछले दिनों 180 करोड़ की नगदी के साथ गिरफ्तार हुए शेखर रेड्डी के निशानदेही पर यह कार्रवाई हुई है। उनके घर पर छापेमारी के बाद अब आयकर विभाग ने उनके  आॅफिस पर भी छामा मारा है।

तमिलनाडु के साथ-साथ बैंगलोर और आन्ध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में भी मुख्यसचिव के घर और ठिकानों पर आयकर विभाग की कार्रवाई चल रही है। कहा जा रहा है कि केवल राममोहन राव नहीं, बल्कि उनके बेटे के भी शेखर रेड्डी के साथ व्यापारिक संबंधों का पता चला है। साथ ही इन तीनों की कॉल रिकाॅर्डिंग में भी कई बार तीनों के बीच बिजनेस डील की बातचीत के आधार पर इस पूरी कार्रवाई को अंजाम दिया गया है। जांच में 18 लाख के नए नोट और 10 किलो सोना अभी तक बरमाद हुए हैं। 

खबरों की मानें तो शेखर रेड्डी के यहां छापेमारी के दौरान आयकर विभाग के हाथ कुछ ऐसे दस्तावेज भी मिले थे जिसका लिंक मुख्य सचिव राम मोहन राव के साथ है। कार्रवाई इतनी गोपनीय थी सुबह-सुह ही पैरा मिलिट्री फोर्स के साथ आयकर विभाग के अधिकारी मुख्य सचिव के पाॅश इलाके अन्ना नगर स्थित घर और अन्य ठिकानों पर छापा मारने पहुंच गए।

यह पहला मौका है जब तमिलनाडु के आयकर विभाग के अधिकारीयों के इतने बड़े किसी अधिकारी के खिलाफ कोई कार्रवाई की है। कहा जा रहा

है की तमिलनाडु के खनन कारोबारी शेखर रेड्डी के बयान को आधार बनाकर इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया। आयकर विभाग ने शेखर रेड्डी के यहां कार्रवाई कर 136 करोड़ की पुरानी और नई करेंसी जब्त की थी। साथ ही 127 किलो से अधिक का सोना भी मिला था।

तमिलनाडु की राजनीति में रेड्डी को मुख्य सचिव राम मोहन राव का काफी नजदीकी भी माना जाता है। पहले शेखर रेड्डी और अब राममोहन राव के खिलाफ कार्रवाई के बाद माना जा रहा है की सत्तारूढ़ AIADMK पार्टी के कुछ और बड़े नेता

भी आयकर विभाग के निशाने पर आ सकते हैं। क्योंकि शेखर रेड्डी को नौकरशाहों के साथ-साथ सत्ताधारी दल AIADMK के नेताओं के भी काफी करीबी कहा जाता है।