भारत को सेल्यूट करता हूं-ट्रंप

नई दिल्ली (27 जून): भारत की बढ़ती अर्थव्यवस्था और उसके दुनिया पर असर को महसूस करते हुए ट्रप ने कहा कि मैं आपको और भारत की जनता को सल्यूट करता हूं। भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती हुई इकॉनमीज में से है। ट्रंप ने कहा कि हमारे पास संबंधों को सुधारने का विजन है। नई तकनीक, नए इन्फ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में हम आगे बढ़ रहे हैं। हमें खुशी है कि दोनों देशों के बीच कारोबार तेजी से बढ़ा है। भारत द्वारा अमेरिका से सैकड़ों एयरक्राफ्ट्स के आयात से हजारों अमेरिकियों को रोजगार मिला है।

आईये देखते हैं दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतंत्र के नेताओं ने क्या कहा-

* ट्रम्प ने कहा, "भारत और अमेरिका के बीच संबंध कभी इतने बेहतर नहीं रहे। भारत दुनिया की तेजी से बढ़ती हुई इकोनॉमी है। मुझे उम्मीद है कि हम जल्द ही आपकी बराबरी कर पाएंगे।

* ट्रंप ने कहा कि मैं भारत की महान संस्कृति की सम्मान करता हूं।

* भारत और यूएस के बीच सिक्युरिटी पार्टनरशिप बेहत महत्वपूर्ण है। दोनों ही देशों आतंकवाद के राक्षस ने नुकसान पहुंचाया है और हम दोनों आतंकी संगठनों, कट्टरपंथी सोच को खत्म करने के लिए कमिटेड हैं। हम कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवाद को खत्म करेंगे।

* मोदी ने कहा- ओपनिंग ट्वीट से लेकर हमारी वार्ता के समापन तक ट्रम्प के मित्रता भरे स्वागत, व्हाइट हाउस में शानदार अतिथि सत्कार के लिए आभार व्यक्त करता हूं। आपने मेरे लिए, भारत के लिए जो भाव व्यक्त किए, उसके लिए आभारी हूं। मैंने ट्रम्प की बेटी इवांका को न्यौता दिया, उन्होंने स्वीकार किया। मैं उनका स्वागत करने का इंतजार कर रहा हूं। आपने (ट्रम्प) मेरे साथ इतना समय बिताया, उसके लिए मैं आपका आभारी हूं।

* ये यात्रा और बातचीत दोनों देशों के इतिहास का अहम पन्ना साबित होगी। मेरी और राष्ट्रपति की बातचीत हर तरह से बेहद अहम रही है। क्योंकि, ये विश्वास पर आधारित थी। ये हमारी वैल्यूज, प्राथमिकताओं, चिंताओं और रुचियों में समानता पर आधारित थी।ये भारत और यूएस के बीच परस्पर सहयोग और सहभागिता की चरम सीमाओं की उपलब्धि पर केंद्रित है।

* हम दोनों ग्लोबल इंजिंस ऑफ ग्रोथ हैं। दोनों देशों और समाजों का चहुंमुखी आर्थिक विकास और साझी प्रगति ट्रम्प और मेरा मुख्य लक्ष्य था और आगे भी रहेगा।

* आतंकवाद जैसी वैश्विक चुनौतियों से हमारे समाजों की रक्षा हमारी टॉप प्रियॉरिटी है। मीटिंग में हमने टेररिज्म, एक्स्ट्रमिज्म और रेडिकलाइजेशन से विश्व में पैदा हुई चुनौतियों पर चर्चा की और अपना सहयोग बनाने पर भी सहमति बनाई। आतंकवाद से लड़ना और आतंकवादियों की सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म करना हमारी सहभागिता का अहम हिस्सा होगा। इसमें इंटेलिजेंस और सूचना के आदान-प्रदान को बढ़ाएंगे, पॉलिसी कॉर्डिनेशन को गहरा करेंगे।

* सुरक्षा चुनौतियों के मुद्दे पर भी चर्चा की है। अमेरिका द्वारा भारत की डिफेंस कैपेबिलिटी के सशक्तिकरण की हम सराहना करते हैं। हमने हर प्रकार से अपने बीच मैरीटाइम सिक्युरिटी कॉपरेशन को बढ़ाने का फैसला किया है। दोनों देशों के बीच डिफेंस टेक्नोलॉजी, ट्रेड तथा मैन्युफैक्चरिंग की सुदृढ़ता दोनों देशों के लिए लाभकारी होगी। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सामरिक हितों पर जोर दिया है। यूनाइटेड स्टेट से मिलते लगातार समर्थन के लिए हम आभारी हैं। ये हम दोनों के हित में है। आपकी भारत और मेरे प्रति मित्रभाव के लिए मैं हृदय से धन्यवाद करता हूं। मुझे भरोसा है कि आपके नेतृत्व में हमारी म्यूचुअल बेनिफिशियल स्ट्रैटेिजक पार्टर्नशिप को नई ऊंचाई मिलेगी।"