'स्वीटी, हनी, बेब नामों से महिलाओं को बुलाए जाने से मुझे नफरत'

नई दिल्ली (9 अप्रैल): वर्कप्लेस पर लैंगिक समानता की वकालत करते हुए पेप्सिको की सीईओ इंद्रा नूयी का कहना है कि महिलाओं को समाज में बराबरी पाने का हक है। उन्होंने कहा कि वह 'स्वीटी', और 'हनी' जैसे शब्दों से बुलाया जाना बिल्कुल पसंद नहीं करतीं। साथ ही महिलाओं को व्यक्तियों के तौर पर सम्मान मिलना चाहिए। ना कि इन नामों से बुलाया जाना चाहिए।

'टाइम्स ऑफ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में जन्मी इंद्रा नूयी ने वीमेन इन द वर्ल्ड समिट में शुक्रवार को कहा, "हमें बराबरी का व्यवहार मिलना चाहिए। मुझे स्वीटी और हनी बुलाया जाने से नफरत है। लेकिन अभी भी मुझे इन नामों से बुलाया जाता है। इस सबको अब चले जाना चाहिए। हमें एक्जीक्यूटिव्स या व्यक्तियों के तौर पर व्यवहार किया जाना चाहिए। ना कि हनी, स्वीटी, बेब बुलाया जाना चाहिए। इसे बदलना चाहिए।" यह समिट न्यूयॉर्क टाइम्स के सहयोग से आयोजित किया गया।

नूयी ने कहा कि महिलाएं कई सालों से क्रांतिकारी मोड में हैं। जिनमें बॉयस क्लब में एंट्री से लेकर सैलरी में समानता की मांग करती आ रही हैं।

नूयी ने कहा कि महिलाओं ने  स्कूल में अच्छे ग्रेड्स पाकर अपनी डिग्रियां लेकर वर्कप्लेस पर अपनी जगह बनाई है। जिस वजह से समकक्ष पुरुषों ने इसपर गौर किया है। उन्होंने कहा, "हमने वर्कप्लेस पर संघर्ष कर अपनी जगह बनाई है। इसके बाद हमें सैलरी में समानता की जरूरत थी, जिसके लिए हम अभी भी लड़ाई कर रहे हैं।"

बता दें, नूयी दुनिया में सबसे ज्यादा ताकतवर और प्रभावशाली बिजनेस महिलाओं में से एक हैं।