अरे..., खुद अपने ही बारे में धोनी ये क्या कह दिया !

नई दिल्ली (23 अक्टूबर): न्यू जीलैंड के खिलाफ तीसरे वनडे में 80 रनों की शानदार पारी खेलकर भले ही आलोचकों को शांत कर दिया हो। लेकिन, उन्होंने खुद स्वीकार किया कि अब उनकी बैटिंग में पहली जैसी चपलता नहीं है और स्ट्राइक रोटेट करने में उनकी फुर्ती कुछ कम हुई है। धोनी के इस बयान को उनकी बढ़ती उम्र से जोड़कर देखा जा सकता है। 5 मैचों की सीरीज के तीसरे वनडे में 91 गेंदों पर 80 रन बनाने वाले धोनी ने कोहली के साथ मिलकर तीसरे विकेट के लिए 154 रन की बड़ी साझेदारी की। इसके चलते ही भारत ने 286 रन के बड़े टारगेट को आसानी से हासिल कर लिया।

चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए धोनी ने मैच के बाद प्रजेंटेशन सेरेमनी में कहा, 'मैंने लंबे समय तक निचले क्रम में बल्लेबाजी की है। करीब 200 पारियां मैंने निचले क्रम में ही खेली हैं। लेकिन, अब मैं महसूस कर रहा हूं कि पिच के बीच दौड़ने की मेरी क्षमता कम हो रही है। इसलिए मैंने ऊपरी क्रम में बल्लेबाजी का फैसला लिया और दूसरे खिलाड़ियों को फिनिशिंग का चांस दिया। धोनी ने कहा, 'मैं जानता हूं कि मुझे बड़े शॉट्स के बारे में सोचना चाहिए।