हार्दिक पांड्या ने कहा, छक्के तो मैं बचपन से मारता आया हूं

नई दिल्ली ( 25 सितंबर ): भारतीय टीम के आॅलराउंडर हार्दिक पांड्या ने खुलासा किया कि छक्के जड़ना उनके बचपन का शगल रहा है। पांड्या ने कहा कि वह मैदान से बाहर गेंद मारने के लिए हमेशा आश्वस्त रहते हैं। पांड्या की 72 गेंदों पर चार छक्कों की मदद से खेली गई 78 रन की पारी के दम पर भारत ने रविवार को तीसरे वनडे में ऑस्ट्रेलिया को पांच विकेट से हराकर पांच मैचों की सीरीज में 3-0 की अजेय बढ़त बनाई। 

इस साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में चार मौकों पर छक्कों की हैट-ट्रिक लगाने वाले पंड्या ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'छक्के तो मैं पहले भी मारता रहा हूं। अब अंतर केवल इतना है कि मैं उच्च स्तर की क्रिकेट में छक्के लगा रहा हूं। असल में मैं बचपन से ही छक्के लगाता रहा हूं। आपको लगता है कि पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए मैच से मेरा खेल बदला, आप ऐसा मानते हैं तो मुझे कोई दिक्कत नहीं।' 

अब तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की 28 पारियों में 40 छक्के लगाने वाले पंड्या से पूछा गया कि क्या पाकिस्तान के खिलाफ ओवल में खेली गई 76 रन की पारी से उनके करियर में बदलाव आया है।