ढाका अटैक: तारिषि की लास्ट कॉल, बताए थे अंदर के हालात

नई दिल्ली(3 जुलाई): बांग्लादेश की राजधानी के डिप्लोमेटिक जोन में एक रेस्त्रां पर शुक्रवार रात ISIS के हमलों में मारी गई 19 साल की एक भारतीय लड़की तारिषि की आखिरी बातचीत सामने आई है। उसने रात को करीब डेढ़ बजे घरवालों से बात की थी। उसने बताया था कि गोलीबारी हो रही है और चारों ओर चीख पुकार मची है।

बता दें कि ''अल्लाह-हू-अकबर'' नारा लगाते हुए रेस्त्रां में घुसे आतंकियों ने करीब 40 लोगों को बंधक बनाया। जो आयतें सुना पाए, ऐसे 18 लोगों को छोड़ दिया। बाद में 20 लोगों को धारदार हथियारों से मार डाला। बाकी सभी विदेशी थे। ज्यादातर इटली और जापान के थे। हमले के 10 घंटे बाद 100 कमांडोज ने आईएस के 9 में से 6 आतंकियों को मार गिराया। एक मौके से ही पकड़ा गया। 2 की तलाश जारी है। पूरे ढाका में आर्मी तैनात है। पीएम शेख हसीना ने कहा है, ''वे कैसे मुस्लिम हैं जो रमजान के पाक महीने में इंसानों की जान ले रहे हैं?''

तारिषि ने उस रात फिरोजाबाद में अपने अंकल राकेश मोहन जैन से बात की थी। उसने कहा था, हेलो! अंकल, मैं यहां दोस्तों के साथ रेस्त्रां में आई थी। लेकिन आतंकवादियों ने हमला कर दिया। हर तरफ चीख पुकार मची है। गोलियां चल रही हैं... धमाके हो रहे हैं। जान बचाने के लिए मैं यहां टॉयलेट में आकर छुप गई हूं। समझ में नहीं आ रहा क्या हो गया... क्या करूं.... ।इसके बाद परिवार ने कई बार फोन किया, लेकिन रिसीव नहीं हुआ। सुबह साढ़े 6 बजे फोन रिसीव हुआ, पर उधर से कोई जवाब नहीं आया।

19 साल की भारतीय लड़की तारिषि भी आतंकी हमले के दौरान कैफे में फंस गईं थीं। वो इफ्तार के बाद अपने दो दोस्तों के साथ कैफे गईं थीं। तारिषि छुट्टियां मनाने बांग्लादेश गईं थीं। उन्होंने हाल ही में कैलिफोर्निया की बर्कले यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया था। उनके कुछ दोस्तों ने लगातार तारिषि के मोबाइल पर फोन किए लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं मिला। भारत में रह रहीं बांग्लादेशी राइटर तस्लीमा नसरीन ने शुक्रवार रात ही दावा किया था कि बंधकों में एक भारतीय लड़की भी है।

शनिवार दोपहर तस्लीमा ने दोबारा ट्वीट कर कहा कि तारिषि को आईएस के आतंकियों ने मार डाला। इसके बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी ट्वीट कर बताया कि तारिषि की आतंकियों ने हत्या कर दी है। मैंने उनके पिता संजीव जैन से भी बात की है।