क्या Hyundai Creta को टक्कर दे पाएगी Nissan Kicks, जाने इस गाड़ी के बारे में सबकुछ

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (24 जनवरी): टाटा की नेक्सॉन की कामयाबी की कामयाबी के बाद अब निसान से भी कुछ ऐसा ही दांव खेला है, निसान की एसयूवी Kicks बाजार में उतारी है जिसका सीधा मुकाबला हुंडई की क्रेटा जैसी सफल गाड़ी से है। निसान ने किक्स के रूप में एक ऐसी एसयूवी उतारी है, जो ज्यादातर मामलों में खरी उतरती है, लेकिन क्रेटा जैसे मजबूत खिलाड़ी को चुनौती देना इतना आसान भी नहीं है। हालांकि, अच्छी बात यह है कि इस सेगमेंट में ज्यादा ऑप्शंस मौजूद नहीं है। सीधे तौर पर इसका मुकाबला क्रेटा के अलावा रेनॉ कैप्चर से रहेगा। मारुति सुजुकी विटारा ब्रेजा, टाटा नेक्सॉन और फोर्ड इकोस्पोर्ट्स के टॉप वेरियंट्स से भी इसके कुछ वेरियंट्स की टक्कर रह सकती है। कीमत में यह क्रेटा के बराबर है, लेकिन फीचर्स और ऑफ्टर सेल्स एक्सपीरियंस में कुछ एक्स्ट्रा देने की कोशिश की गई है। इसके बेस और मिड वेरियंट्स भी ज्यादातर जरूरी सेफ्टी और कंफर्ट फीचर्स से लैस हैं। अब यह क्रेटा को कैसे और कितना झटका दे पाती है, यह देखना दिलचस्प रहेगा। 

साइज और स्पेस के हिसाब से किक्स अपने सेगमेंट की दूसरी गाड़ियों से बड़ी है, लेकिन दिखने में यह कॉम्पैक्ट ही लगती है। डिजाइन के मामले में यह रफ ऐंड टफ लुक्स वाली एसयूवी नहीं लगती, बल्कि एक क्रॉसओवर के ज्यादा करीब लगती है। बदलते टेस्ट के हिसाब से निसान की डिजाइन टीम ने सही रास्ता पकड़ा है। जो लोग सिडैन या हैचबक से एसयूवी सेगमेंट में जा रहे हैं, उन्हें भी अटपटा नहीं लगेगा और एसयूवी वाला टशन भी आ जाता है। इसमें ऑरेंज के साथ जो सिल्वर का ड्यूल टोन करैक्टर दिया है, वो इसे इस वक्त इंडिया की सबसे खूबसूरत दिखने वाली गाड़ियों की कतार में ला खड़ा करता है। फ्रंट और बैक का डिजाइन काफी ट्रेंडी लगता है, हालांकि टेल लाइट्स को और बेहतर बनाया जा सकता था। आमतौर पर ज्यादातर गाड़ियों के साइड प्रोफाइल काफी डल लुक वाले रहते हैं, लेकिन इस गाड़ी के साइड प्रोफाइल को भी काफी बेहतर बनाया गया है।

गाड़ी के इंटीरियर को थोड़ा सिंपल और क्लासी रखने की कोशिश की गई है। क्वॉलिटी और फिट-फिनिश से समझौता नहीं किया गया है। टॉप वेरियंट में लेदर का जमकर इस्तेमाल किया गया है, जो यकीनन इसके कैबिन को प्रीमियम कारों जैसा बनाने में मदद करता है। स्पेस के मामले में भी इसे पूरे नंबर दिए जा सकते हैं। फ्रंट सीट्स काफी कंफर्टेबल हैं और पिछली सीटों पर भी तीन लोग बैठ सकते हैं। हालांकि, लंबे सफर के दौरान दो लोग ज्यादा कंफर्टेबल रहते हैं। इसकी सिटिंग पोजिशन भी प्रॉपर एसयूवी की तरह ही है, व्यू काफी अच्छा रहता है। हमने इसके 6 स्पीड मैन्युअल गियरबॉक्स से लैस 1.5 लीटर के डीजल इंजन वेरियंट का ही रिव्यू किया, जो 109 बीएचपी की मैक्स पावर और 240 एनएम का टॉर्क देता है। हालांकि, इसमें 1.5 लीटर के पेट्रोल इंजन का भी ऑप्शन है। डीजल इंजन डस्टर और कैप्चर जैसी गाड़ियों में खुद को साबित कर चुका है।

क्रेटा से पावर के मामले में कमी नहीं महसूस होती, लेकिन स्मूदनेस के मामले में जरूर थोड़ा कमतर रहता है, खासतौर पर अगर इसकी क्रेटा के इंजन से तुलना करें तो। सस्पेंशन को इस तरह से ट्यून किया गया है कि खराब सड़कों और गड्ढों से गुजरते वक्त कंफर्ट लेवल बना रहता है और हैंडलिंग पर भी खास असर नहीं पड़ता। थोड़ा बॉडी रोल जरूर आती है, लेकिन हाई स्पीड और तीखे मोड़ों पर यह गाड़ी मजबूत पकड़ बनाए रखती है। 210 एमएम का ग्राउंड क्लीयरेंस इसे हल्की-फुल्की ऑफ रोडिंग के लिए भी एक कामयाब गाड़ी बनाता है। इस गाड़ी में कुछ की कमी खलती भी है जैसे सनरूफ, वायरलेस चार्जिंग, कर्टेन एयरबैग्स और चारों पहियों में डिस्क ब्रेक का न होना। 360 डिग्री पार्किंग कैमरा देकर इसे दूर करने की कोशिश जरूर की गई है, यह फीचर तो आमतौर पर लग्जरी कारों में ही देखने को मिलता है। यह न सिर्फ एक अपमार्केट फीचर है, बल्कि इसकी आदत होने के बाद आपको टाइट स्पेस में पार्किंग करने में काफी आसानी होती है।