रोहित सुसाइड मामला: 4 दलित छात्रों का निलंबन वापस

नई दिल्‍ली (21 जनवरी): हैदराबाद में छात्र रोहित वेमुला की खुदकुशी का मामला राजनैतिक होते देख यूनिवर्सिटी प्रशासन ने 4 दलित छात्रों के निलंबन को वापस ले लिया है। यह फैसला यूनिवर्सिटी की कार्यकारी परिषद की बैठक के बाद लिया गया।

प्रो. पी प्रकाश बाबू (डीन, स्टूडेंट वेलफेयर) ने कहा कि छात्रों का निष्कासन वापस ले लिया गया है और जो भी मांगें हैं उनपर छात्र नेतृत्व से बात करके उनको सुलझाया जाएगा। इससे पहले आज एससी-एसटी प्रोफेसर प्रदर्शनकारी छात्रों के समर्थन में आ गए हैं और उन्‍होंने प्रशासनिक पदों से इस्तीफा दे दिया है। इनमें परीक्षा नियंत्रक भी शामिल है। ये प्रोफेसर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के कल के बयान से नाराज हैं। इनका आरोप है कि स्मृति ईरानी ने गलत तथ्य पेश किए हैं।

वहीं इस मामले में एबीवीपी छात्र नेता सुशील कुमार, जिनसे रोहित की लड़ाई हुई थी, का कहना है कि वो रोहित वेमुला की मौत से दुखी हैं,  लेकिन इस पूरे विवाद में उनका नाम खींचे जाने से वो मानसिक तौर पर परेशान हो रहे हैं। सुशील कुमार का कहना है मेरे मोबाइल पर ऐसे मैसेज आ रहे हैं कि मैं एक क्रिमिनल हूं। इन मैसेज में मुझे रोहित की मौत का जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। सुशील का कहना है कि मेरा रोहित से वैचारिक मतभेद था ना कि व्यक्तिगत दुश्मनी और इस मामले को सियासी रंग देने की कोशिश हो रही है। सुशील कुमार ने मांग की है इस मामले की ईमानदारी से जांच हो।