नवजोत सिद्धू की पत्नी ने चेताया- "अगर मुझे फिर तंग किया तो मेरे पति मेरे लिए लड़ने उतरेंगे"

नई दिल्ली (5 अप्रैल) :  बीजेपी के पूर्व सांसद नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी डॉ नवजोत कौर सिद्धू ने फेसबुक पर पहले पार्टी से इस्तीफ़ा दिया और फिर दो दिन बाद ही इसे वापस ले लिया। अमृतसर ईस्ट से विधायक और पंजाब विधानसभा में मुख्य संसदीय सचिव डॉ नवजोत सोमवार को अपने चुनाव क्षेत्र में लौटीं। लेकिन उनके तल्ख तेवर बरकरार रहे।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक डॉ नवजोत ने बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) पर निशाना साधते हुए कहा, "अगर राज्य सरकार, खास तौर पर एसएडी की ओर से मुझे परेशान किया गया तो मेरे पति और पूर्व सांसद नवजोत सिंह सिद्धू मेरे लिए यहां लड़ने आ जाएंगे।"

डॉ नवजोत ने दोहराया कि अगर पंजाब विधानसभा चुनाव बीजेपी और एसएडी ने मिलकर लड़ने का फैसला किया तो वो चुनाव नहीं लड़ेंगी। डॉ नवजोत ने इस बात का खंडन किया कि ना तो वो खुद और ना ही उनके पति नवजोत सिंह सिद्धू आम आदमी पार्टी में जा रहे हैं।

डॉ नवजोत ने कहा कि उन्होंने कभी नहीं कहा कि वे आम आदमी पार्टी में जा रही हैं। उनका बीजेपी से इस्तीफ़ा नाटक नहीं बल्कि हक़ीक़त था। इस्तीफ़े को बीजेपी के संगठन सचिव रामलाल और नवजोत सिंह सिद्धू ने रोका।  

डॉ नवजोत ने कहा, "मैं इसलिए व्यथित थीं क्योंकि मेरे निर्वाचन क्षेत्र में विकास कार्यों के लिए टेंडर नहीं दिए जा रहे थे। मैंने 20 दिन इंतज़ार किया। ऐसा जानबूझकर मेरे साथ अकाली दल ने किया। मेरी चिंता मेरे क्षेत्र में विकास कार्य को लेकर है। अगर ऐसी बाधाएं खड़ी की जाती रहेंगी तो मैं कैसे चुप रह सकती हूं।"

डॉ नवजोत ने कहा, "मैंने बीजेपी हाईकमान से बात की। उन्होंने स्थिति सुधरने का आश्वासन दिया है। अगर अगली बार मेरे साथ कुछ गलत किया तो मैं मेरे पति मेरा समर्थन करने के लिए यहां मौजूद होंगे। डॉ नवजोत ने कहा कि 49 करोड़ रुपए के टेंडर आखिरकार खोल दिए गए हैं। इसी वजह से उन्होंने फेसबुक पर इस्तीफा वापस लेने की पोस्ट डाली।