शादी के समय वर्जिन नहीं थी, इसलिए पति ने तोड़ दी शादी

नई दिल्ली (1 जून): महाराष्ट्र के नासिक में शादी के 2 दिन बाद ही पति ने पत्नी पर ये आरोप लगाकर छोड़ दिया कि वो शादी के वक्त 'कुंवारी'नहीं थी। पत्नी पर उसने ये आरोप भरी पंचायत के सामने लगाये। पंचायत ने उसके आरोपों को सही मानते हुए शादी तोड़ने के फरमान पर मुहर लगा दी। नासिक के इस गांव में जात पंचायत यह निर्धारित करती है कि नवविवाहिता लड़की वर्जिन (कुंवारी) थी या नहीं।

लड़की वर्जिन (कुंवारी) है या नहीं इसका फैसला करने के लिए पंचायत जोड़े को एक सफेद चादर पर संसर्ग करने को कहती है। संसर्ग के बाद अगर चादर पर कोई निशान नहीं मिलता तो लड़की को वर्जिन (कुंवारी) नहीं माना जाता। इस मामले में लड़की का पक्ष है कि वह पुलिस भर्ती की तैयारी के चलते शारीरिक अभ्यास कर रही थी, जिसकी वजह ऐसा हुआ है। पंचायत के इस फैसले के बाद लड़की और उसकी मां ने पुलिस में शिकायत भी दर्ज करानी चाही लेकिन उसके पिता ने ही उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। इतनी ही नहीं मां-बेटी को करीब एक हफ्ते तक घर में नजरबंद भी रखा।