चीन का पिछलग्गू बनने से बर्बाद हो जाएगा पाकिस्तान- हुसैन हक्कानी

नई दिल्ली (16 अप्रैल): पाकिस्तान के पूर्व राजनयिक और अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी पाकिस्ता और चीन के बीच लगातार बढ़ रहे नजदीकों को लेकर अपने राजनेताओं को चेतावनी दी है। हैसन हक्कानी का कहना है कि इस्लामाबाद जिस तरह से बीजिंग के हाथ का कठपुतली बनते जा रहा है वो एक दिन इसे बर्बाद कर देगा। हुसैन हक्कानी का कहना है कि पाकिस्तान को चीन का पिछलग्गू नहीं बनना चाहिए।

अपनी नई किताब ‘रीइमेजिनिंग पाकिस्तान : ट्रांसफार्मिंग ए डिस्फंक्शनल न्यूक्लियर स्टेट’ के विमोचन के लिए भारत आए हक्कानी का कहना है कि पाकिस्तान ने खुद को किसी एक बड़ी शक्ति या दूसरों द्वारा इस्तेमाल किए जाने की अनुमति देकर अपनी रणनीतिक स्थिति का फायदा उठाने की कोशिश की। लेकिन इस कोशिश ने ही पाकिस्तान को वर्तमान स्थिति में ला खड़ा किया है। उन्होंने कहा, लड़ाकू देश बनने की जगह कारोबारी देश बनना चाहिए और भू रणनीति की जगह भू आर्थिक की तरफ सोचना शुरू करना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था पर ध्यान देना चाहिए। 

साथ ही उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को यह तय करने की जरूरत है कि उसके लिए आतंकी हाफिज सईद का समर्थन और अंतरराष्ट्रीय विश्वसनीयता व सम्मान हासिल करने में क्या अधिक महत्वपूर्ण है। आपको बात दें कि हक्कानी 2008 से 2011 तक अमेरिका में पाकिस्तान के राजदूत रह चुके हैं। उनकी टिप्पणियों ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 1.15 अरब डॉलर की अमेरिकी सुरक्षा सहायता रोकने में अहम भूमिका निभाई। हक्कानी ने कहा था कि पाक अफगानिस्तान में हक्कानी नेटवर्क और तालिबान की मदद कर रहा है। हक्कानी 2008 से 2011 तक अमेरिका में पाकिस्तान के राजदूत थे।