"अगले सौ सालों में तबाह हो जाएगी पृथ्वी, नहीं रहेगी इंसानों के रहने लायक"

लंदन (4 मई): एक बार फिर मशहूर भौतिकशास्त्री स्टीवन हॉकिंग ने चौंकाने वाला दावा किया है। इस बार उन्होंने कहा है कि पृथ्वी और मानवता के लिए समय तेजी खत्म हो रहा है। मौसम में हो रहे बदलावों, ऐस्टरॉइड्स के टकराने और बढ़ती जनसंख्या के खतरे के चलते इंसानों को अगले सौ सालों में एक नए ग्रह पर बसने की जरूरत होगी।


'एक्सपिडिशन न्यू अर्थ' (नई पृथ्वी की खोजयात्रा) नाम की इस डॉक्युमेंट्री में प्रफेसर हॉकिंग और उनके पुराने स्टूडेंट क्रिस्टॉफे गैलफॉर्ड दुनिया की सैर कर पता लगाएंगे कि इंसान अंतरिक्ष में कैसे खुद को जिंदा रख सकता है। इसी सीरीज में प्रफेसर ने दावा किया कि धरती और इस पर रह रहे इंसानों का समय पूरा हो रहा है। उन्हें जिंदा रहने के लिए इसे छोड़ना होगा। टेलिग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक, इस शो का मकसद लोगों से उनके जीवन के सबसे प्रभावशाली चीज के लिए वोट करने की मांग कर ब्रिटेन के सबसे बड़े आविष्कार की खोज करना है।


पिछले महीने ही हॉकिंग ने चेतावनी दी थी कि तकनीक के साथ तेजी से बढ़ रही इंसानों की आक्रामक प्रवृत्ति हमें न्यूक्लियर या बायलॉजिकल वॉर के जरिए तबाह कर सकती है। उन्हें कहा कि केवल एक 'वैश्विक सरकार' ही इस 'नजदीकी विनाश' को रोक सकती है। उन्होंने आशंका जताई थी कि इंसानों में एक प्रजाति के रूप में जिंदा रहने के गुणों की कमी हो सकती है।