कुएं से निकला दूध सा 'चमत्कारी जल', आचमन और स्नान के लिए लगा तांता

नई दिल्ली (3 अप्रैल): हाथरस के पास सिकंदरपुर गांव के एक कुएं से निकल रहे 'चमत्कारी जल' से तमाम लोगों की बीमारियां दूर हो रही हैं। ऐसा दावा सिकंदरपुर गांव के लोग कर रहे हैं। गांव की मुनीसा नाम की एक महिला ने होली की रात राम, सीता और लक्ष्मण की खण्डित मूर्ति को एक पुराने कुएं में फेंक दिया था। मुनीसा  का कहना है कि मूर्तियों के गिरते ही कुएं में धुआं भर गया और कुछ घंटों बाद कुएं का जल स्तर भी अचानक बढ़ गया।

गांव वालों का कहना है कि यह कुंआ काफी समय से इस्तेमाल नहीं हो रहा था, लेकिन अब इसमें से साफ और दूध की तरह सफेद पानी निकल रहा है। जब से यह खबर आसपास के इलाकों में फैली है, तब से ही यहां आने वाले लोगों का तांता लग गया है। लोग इसे तीर्थ स्थान मानकर कुएं के दर्शन और स्नान करने आ रहे हैं। हालांकि स्थानीय प्रशासन गांव वालों की बातों से सहमत नहीं है। अधिकारियों का कहना है कि वो कुएं के पानी की जांच करवायेंगे।