एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी पर नए आरोप, वीसी ने दी इस्तीफे की धमकी

मानस श्रीवास्तव, इलाहाबाद (11 मई): मानव संसाथन मंत्री स्मृति ईरानी पर इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के कामकाज में दखल करने का आरोप लगा है। मोदी राज में ही नियुक्त हुए सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो. रतनलाल हंगलू ने स्मृति पर कामकाज में दबाव बनाने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं, वीसी ने इस्तीफा देने की भी बात कही है।

वीसी के मुताबिक, स्मृति ईरानी और बीजेपी के सांसद यूनिवर्सिटी की स्वायत्तता को खत्म करने का काम कर रहे हैं। कामकाज में दखलअंदाजी के से नाखुश वीसी हंगलू ने कहा है कि अगर आगे भी ऐसा ही होता रहा तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे।

दरअसल,  करीब चार महीने पहले ही इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वीसी बने प्रो. रतन लाल हंगलू ने नये सेशन से सभी इंट्रेंस एग्जाम सिर्फ आन लाइन ही कराए जाने का एलान किया था। लेकिन यूनिवर्सिटी में दाखिले की प्रक्रिया शुरू होते ही छात्रों ने इंट्रेंस एग्जाम को ऑफ लाइन कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन शुरू कर दिया।

भदोही औऱ कौशाम्बी से बीजेपी सांसद समेत बीजेपी के कई दूसरे नेताओं ने  छात्रों के आंदोलन का समर्थन किया और एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी से वीसी की शिकायत की। इस मुलाकात के बाद  स्मृति ईरानी ने मामले में दखल दिया और वीसी के फैसले को पलटते हुए सभी इंट्रेंस एग्जाम में आफ लाइन का भी विकल्प दे दिया। 

उधर, खबर आने के बाद कांग्रेस ने बीजेपी को आड़े हाथों लिया है। पार्टी के प्रवक्ता मीम अफजल का कहना है कि अभी तक कांग्रेस आरोप लगाती थी, तो बीजेपी उसका मजाक बनाती थी। लेकिन, आज एक वीसी खुद सामने आकर मंत्री की दखलंदाजी की बात कह रहे हैं।