पनामा गेटः फर्जी पेपर्स देकर फंस गये नवाज शरीफ

नई दिल्ली (12 जुलाई): पनामागेट मामले में फंसे पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ की कुर्सी एक फॉन्ट के चलते खतरे में नजर आ रही है। इस केस की जांच के लिए गठित संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने प्रधानमंत्री की बेटी मरियम नवाज की ओर से सौंपे गए डॉक्युमेंट्स को जाली करार दिया है। जांच दल ने मरियम नवाज की ओर से जमा किए गए फर्जी दस्तावेजों को फॉन्ट के आधार पर पकड़ा है। असल में इन दस्तावेजों में माइक्रोसॉफ्ट के कैलिब्रीi फॉन्ट का इस्तेमाल किया गया है।


जांच दल ने सुप्रीम कोर्ट को सोमवार को सौंपी अपनी फाइनल रिपोर्ट में कहा, 'मरियम की ओर से सौंपे गए दस्तावेज 2006 के हैं, जबकि कैलिबरी फॉन्ट 31 जनवरी, 2007 तक कमर्शल यूज के लिए उपलब्ध ही नहीं था।' जांच दल ने लंदन की रैडली फॉरंसिक डॉक्युमेंट लैबोरेट्री के रॉबर्ट डब्ल्यू रैडली की राय का हवाला देते हुए दस्तावेजों में इस्तेमाल फॉन्ट पर सवाल उठाए हैं।