मिस्रः होस्नी मुबारक जनसंहार के आरोपों से बरी

नई दिल्ली (3 मार्च):  मिस्र के पूर्व तानाशाह हुस्नी मुबारक को वर्ष 2011 में प्रदर्शनकारियों के जनसंहार में शामिल होने के आरोप से बरी कर दिया गया है। मिस्र की अदालत ने गुरुवार की शाम अपने फैसले में  कहा है कि देश के पूर्व राष्ट्रपति हुस्नी मुबारक वर्ष 2011 में हुए प्रदर्शनों के दौरान प्रदर्शनकारियों के जनसंहार के ज़िम्मेदार नहीं हैं और अदालत, आरोपी को निर्दोष क़रार देती है।

अदालत ने इसी प्रकार वर्ष 2011 में प्रदर्शनों के दौरान मारे जाने वालों के परिजनों की इस मांग को रद्द कर दिया कि मुबारक के खिलाफ अन्य केस फिर से चलाए जाएं। इस प्रकार से अब हुस्नी मुबारक के खिलाफ मुक़द्दमा चलाने की संभावना खत्म हो गयी। मिस्र के 88 वर्षीय तानाशाह हुस्नी मुबारक को पहली बार सन 2012 में 239 प्रदर्शनकारियों की हत्या और जनवरी 2011 में आंरभ होने वाली क्रांति के बाद देश में अशांति फैलाने के आरोप में उम्र क़ैद की सज़ा सुनायी गयी थी किंतु अदालत ने उन पर फिर से मुकद्दमा चलाए जाने का आदेश दिया था। 

उन पर चलाया जाने वाला दूसरा मुक़द्दमा भी 2014 में खत्म हो गया जिसके बाद मिस्र के अटार्नी जनरल ने फिर उनके खिलाफ कार्यवाही की मांग की जिसके बाद चलने वाले मुक़द्दमें  में अब अदालत ने उन्हें निर्दोष घोषित कर दिया है।