सौदे के लिए मासूम को दिए गए हार्मोन्स के इंजेक्शन

देवेंद्र भामदरे, इंदौर (1 सितंबर): महाराष्ट्र के अमरावती से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे जानने के बाद हर कोई हैरान है। यहां पर एक नाबालिग बच्ची को जिस्मफरोशी के दलालों ने हार्मोस के इंजेक्शन और दवाएं देकर वक्त से पहले जवान कर दिया। इस दिल दहला देने वाली घटना को अंजाम देने वाले तीन दरिंदों को खातेगांव पुलि ने गिरफ्तार किया है। साथ ही उन महिलाओं की भी तालाश की जा रही है, जिन्होंने इस मासूम को नर्क में धकेला।

महाराष्ट्र के अमरावती की रहने वाली 20 साल की भारती (बदला हुआ नाम) 7 साल की उम्र में मां-बाप की मौत के बाद नाना के साथ रहने लगी। 9वीं क्लास में अच्छे नंबरों से पास होने पर भारती के अखबारों में फोटो क्या छपे, उस पर दरिंदों की गिद्धदृष्टि पड़ गई। भारती की एक रिश्तेदार उसे गांव से अमरावती पढ़ाने ले आई और 70 हजार में किसी महिला को बेच दिया।

15 साल की उम्र में भारती का दुबला पतला शरीर देखकर कोई भी उसकी ऊंची बोली लगाने को तैयार नहीं हुआ तो वक्त से पहले जवान करने के लिए हार्मोन्स के इंजेक्शन और दवाएं दी जाने लगी। देखते ही देखते 16 साल की भारती उम्र में बीस साल की दिखने लगी । भारती को खातेगांव के राहुल सेठी को बेचा गया, जिसने उसके साथ लगातार दुष्कर्म किया।

कुछ दिन पहले जब वह घर से बाहर आई तो लौटने पर दरवाजे नहीं खुले। भारती भागकर थाने पहुंची और पुलिस को बताया कि घर के दरवाजे नहीं खोले जा रहे है। पुलिस ने भारति को सुरक्षित स्थान पर रखा और सुबह भारती को घर छोड़ा, लेकिन रात को भारती ने केरोसिन डालकर सुसाइड करने की कोशिश की। किसी ने 100 डायल को फोन किया और पुलिस भारती को थाने लाई। कॉन्सलिंग के दौरान भारती ने जो क्रूरता की दास्तान सुनाई तो पुलिस के पैरों तले जमीन खिसक गई।

सच्चाई की गहराई में जाने के लिए भारती का मेडिकल किया गया, जिसकी रिपोर्ट देख पुलिस के रोंगटे खड़े हो गए। भारती के नाजुक हिस्सों में सिगरेट से दागे जाने के निशान थे। एमएलसी रिपोर्ट कह रही थी कि उसे हार्मोन्स के इंजेक्शन और दवाएं देने की पुष्टि हुई। पुलिस ने मामले में राहुल सेठी उसके पिता राजू सेठी को गिरफ्तार किया। पुलिस की एक टीम भारती को बेचने वाली महिला और उसके बेटे की खोज में अमरावती पहुंची। मां तो फरार थी, लेकिन बेटा पुलिस के हत्थे चढ़ गया।