जाधवपुर यूनिवर्सिटी मामले में गृहमंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट

अमरदीप पासवान, कोलकाता (17 फरवरी): जेएनयू से निकले देशविरोधी नारों की आग अब पश्चिम बंगाल तक पहुंच चुकी है। मंगलवार शाम कोलकाता की जाधवपुर यूनिवर्सिटी में भी जेएनयू की तरह देश विरोधी नारे सुनाई पड़े। गृहमंत्रालय ने इसकी भी रिपोर्ट मांगी है।   देशद्रोह की चिंगारी दिल्ली के दिल जेएनयू से उठी लेकिन इसकी लपटें दूर तक पहुंची। जेएनयू जैसे ही स्लोगन पश्चिम बंगाल के जाधवपुर यूनिवर्सिटी में सुनाई पड़े। मंगलवार शाम यूनिवर्सिटी कैंपस में जेएनयू के छात्रों के समर्थन में बुलाए गए प्रोटेस्ट मार्च में कुछ छात्रों ने रैली निकालकर कई तरह की आज़ादी की के नारे बुलंद किए। छात्रों ने कहा, ‘अफजल बोले आजादी’, ‘गिलानी बोले आजादी’ इन नारों के बारे में जब यूनिवर्सिटी के वीसे से पूछा गया तो वो सवाल टालते दिखाई दिए।'

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जाधवपुर यूनिवर्सिटी में लगे देशविरोधी नारेबाजी की निंदा की है। गिरिराज सिंह ने कहा कि लेफ्ट पार्टियों, कांग्रेस और ममत बनर्जी को इस बारे में जवाब देना चाहिए। जेएनयू से लेकर जाधवपुर तक होने वाले देशविरोधी नारे पर लेफ्ट ने सरकार पर हमला। वामपंथी नेताओं ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार को ये जानना होगा की आखिर ऐसे नारे क्यों लग रहे हैं। साथ में ये भी आरोप लगाया कि पूरे देश में नागपुर वाले लोग बैठकर विश्वद्यालयों को सर्टिफिकेट दे रहे हैं कि कौन राष्ट्रवादी है और कौन राष्ट्रद्रोही है।

इसी साल बंगाल में चुनाव होने है ऐसे में ये मामला और गरमा सकता है। जेएनयू में देशविरोधी नारों और उसके पीछे लेफ्ट के युवा कार्यकर्ताओं का शामिल होने का मालम सामने आने के मामले पर देशभर में माहौल गर्माया हुआ है।