एक समय ऐसा भी आएगा जब हम बातचीत से सुलझाएंगे सीमा विवाद: राजनाथ

नई दिल्ली(30 सितंबर): गृहमंत्री राजनाथ सिंह अपने तीन दिन के दौरे पर चमोली पहुंच गए हैं। उन्होंने यहां माणा स्थित 23वीं वाहनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की अग्रिम चौकियों पर जवानों से मुलाकात कर दशहरे की शुभकामनाएं दीं। जवानों से भेंट के दौरान उन्होंने कहा कि आईटीबीपी के जवानों के द्वारा आज पूरे देश में बहुआयामी भूमिका निभायी जा रही है। 

- उन्होंने कहा कि सीमाओं की सुरक्षा हो या आन्तरिक सुरक्षा हो या कोई प्राकृतिक आपदा घटित हो, आईटीबीपी के जवान पूरी जिम्मेदारी से अपनी ड्यूटी कर रहे हैं। आईटीबीपी जवानों से मिलकर मुझे यकीन हो गया कि दुनिया की कोई भी शक्ति उन्हें भारतीय सीमा की रक्षा करने से नहीं रोक सकती। 

- उन्होंने कहा कि हिमवीरों को जो भी जिम्मेदारी दी जाती है, वह उसे बखूबी निभाते हैं। उन्होंने सभी जवानों से हाथ मिलाया और उनसे बातचीत कर उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी ली। 

- गृहमंत्री ने कहा कि भारत सरकार की ओर से जवानों को जो भी सुविधाएं दी जा सकती हैं, उन्हें पूरा करने कोशिश की जा रही है। इस मौके पर उन्होंने आईटीबीपी के जवानों को एक लाख रुपए की धनराशि का चेक और मिठाई देकर दशहरा-दीपावली की शुभकामनाएं भी दीं। 

- राजनाथ सिंह ने सीमा बल हेडक्वॉर्टर से कहा कि मैं यकीन रखता हूं कि एक समय ऐसा भी आएगा जब हम हर सीमा विवाद को संवाद के जरिए सुलझाने योग्य होंगे। उन्होंने डोकलाम मुद्दे पर कहा कि डोकलाम मुद्दे पर एक रुकावट थी लेकिन हम आपसी बातचीत के जरिए इसे सुलझाने में कामयाब रहे। भारत और चीन दोनों ने पॉजिटिव अप्रोच रखी।