ऐसे करें होलिका दहन, यहां जानें शुभ मुहूर्त

Image Credit: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 मार्च): देशभर में होली के साथ-साथ होलिका दहन की तैयारी जोरों पर है। आज होलिका दहन होना है। भद्रा के अधिक समय रहने के कारण इस बार होलिका दहन आज यानी बुधवार रात्र नौ बजे के बाद हो सकेगा। ज्योतिष के अनुसार फाल्गुन पूर्णिमा पर भद्रा रहित प्रदोष काल में होली दहन को श्रेष्ठ माना गया है। होलिका पूजा और दहन में परिक्रमा बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है। मान्यता के मुताबिक होलिका दहन के बाद परिक्रमा करते हुए अगर अपनी इच्छा कह दी जाए तो वो सच हो जाती है। ऐसा भी माना जाता है कि होलिका दहन के दिन सफेद खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए। होली की बची हुई अग्नि और भस्म को अगले दिन सुबह अपने घर ले जाने से सभी नकारात्मक उर्जा दूर हो जाती है।होलिका दहन का शुभ मुहूर्त- आज रात 21:05 से 11:31 तकभद्रा पूंछ- 17:23 से 18:24 तकभद्रा मुख- 18:24 से 20:07 तककैसे करें होलिका दहन...- होलिका दहन के स्थान को जल साफ करें, अगर संभव हो तो गंगाजल से शुद्ध करें। होलिका डंडा बीच में रखें, यह डंडा भक्त प्रहलाद का प्रतीक होता है। इसके बाद डंडे के चारों तरफ पहले चन्दन लकड़ी डालें। इसके बाद सामान्य लकड़ियां, उपले और घास चढ़ाएं। इसके बाद कपूर से अग्नि प्रज्वलित करें। होलिका दहन में पहले श्री गणेश हनुमान जी और शीतला माता भैरव जी की पूजा करें। अग्नि में रोली, पुष्प, चावल, साबूत मूंग, हरे चने, पापड़, नारियल आदि चीजें चढ़ाएं। इसके साथ ही मन्त्र -ॐ प्रह्लादये नमः को बोलते हुए परिक्रमा करें।होलिका की अग्नि में अर्पित करें ये चीज...अच्छे स्वास्थ्य के लिए के लिए होलिका की अग्नि में काले तिल के दाने अर्पित करना चाहिए। बीमारी से मुक्ति के लिए होलिका की अग्नि में हरी इलाइची और कपूर अर्पित करें।  धन लाभ के लिए लिका की अग्नि चन्दन की लकड़ी अर्पित करें। रोजगार के लिए होलिका की अग्नि में पीली सरसों अर्पित करें। विवाह और वैवाहिक समस्याओं के लिए हवन सामग्री अर्पित करें।  आज रात होलिका दहन के बाद कल यानी गुरुवार को देशभर में रंगों का त्योहार होली खेला जाएगा।पूर्णिमा तिथि आरंभ- 10.44 (20 मार्च)पूर्णिमा तिथि समाप्त- 07.12 (21 मार्च)।