'पैलेट गन का विकल्प लाया जाएगा, कश्मीर के बिना भारत का भविष्य नहीं'

नई दिल्ली (25 अगस्त): राजनाथ सिंह ने प्रेसकांफ्रेंस कर कहा कि 5 प्रतिशत लोग जो अशांति पैदा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिन युवाओं के हाथ में पत्थर है उन्हें समझाने की कोशिश होनी चाहिए, हम भारत और कश्मीर का भविष्य अलग नहीं देखते। हमारी आबादी का बड़ा हिस्सा शांति और इज्जत से रहना चाहता है। उन्होंने कहा कि जमहूरियत, इंसानियत, कश्मीरियत के लिए हम सभी से बातचीत के लिए तैयार हैं।

> हम नोडल ऑफिस बनाने जा रहे हैं, कश्मीर के लोग अपनी समस्या वहां शेयर कर सकते हैं और इसकेल लिए जल्द नंबर जारी किया जाएगा। > हमारी समझ पर संदेह मत कीजिए, हम उसी आधार पर समस्या का समाधान की कोशिश कर रहे हैं। > मैंने जवानों से भी संयम बरतने की अपील की है। > कश्मीर के लोगों को भी समझना होगा कि इन्हीं जवानों ने बाढ़ के हालात में क्या भूमिका निभाई थी। > 10 हजार एसपीओ की भर्ती की जाएगी। > राजनाथ ने कहा कि ऑल पार्टी डेलिगेशन कश्मीर लाना चाहते हैं। > पैलेट गन का विकल्प लाया जाएगा, अब इसकी जरूरत महसूस हो रही है। > पैलेट गन पर गठित की गई एक्सपर्ट कमेटी 2-3 दिन में रिपोर्ट देगी। > हालात बिगाड़ने वालों की पहचान होनी चाहिए। > युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ नहीं होना चाहिए। > जवानों के मरने पर हमें दुख होता है। > क्या जो कश्मीर के युवाओं के हाथ में पत्थर दे रहे हैं क्या वे उनका भविष्य बना सकते हैं। > लोगों से अपील करता हूं कि यहां के युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ न होने दें। > मेरी करीब 25 प्रतिनिधिमंडल से बातचीत हुई है, सभी से अच्छी बात हुई है और सभी शांति चाहते हैं।