हिजबुल का ह्रदय परिवर्तन या नई चाल, कश्मीरी पंडितों से वापसी की अपील

नई दिल्ली (20 नवम्बर): 1990 में कश्मीरी पंडितों को घाटी छोड़ने के लिए मजबूर करने में अहम भूमिका निभाने वाले संगठन हिजबुल मुजाहिदीन ने 26 साल में पहली बार रुख बदला है। हिजबुल के  जाकिर रशीद उर्फ मूसा ने वीडियो मैसेज जारी कर पंडितों से वापसी की अपील की है। उसने कहा है, ''हम कश्मीरी पंडितों से गुजारिश करते हैं कि वे घाटी में अपने घर लौट आएं। हम उनकी हिफाजत की जिम्मेदारी लेते हैं।''

हिजबुल ने अगस्त में भी कहा था कि कश्मीरी पंडित चाहें तो लौट आएं लेकिन पहली बार ऐसा हुआ है जब संगठन ने उनकी हिफाजत करने की बात कही है। 1990 में लोकल उर्दू अखबारों ने हिजबुल का एक मैसेज छापा था, जिसमें सभी कश्मीरी पंडितों को तुरंत घाटी छोड़ने की धमकी दी गई थी।