ये था पहला नोट, अबतक इतनी बार बदल चुका है रुपया

नई दिल्ली (9 नवंबर): गुरुवार यानी 9 नवंबर से देशभर में 500 और 1000 के नोट को बंद कर दिया है। इनकी जगह गुरुवार से देशभर में 500 और 2000 के नोट जारी किए जाएंगे। भारत में नोटों का इतिहास बडा़ ही रोचक रहा है। भारत में 1770 बैंक ऑफ हिंदूस्तान ने पहला नोट जारी किया था। यह बैंक बंगाल प्रेसीडेंसी के तहत काम करने वाला एक प्राइवेट बैंक था। इसके अलावा मुंबई प्रेसीडेंसी की ओर से भी नोट जारी किए गए थे। हालांकि 1857 की क्रांति के बाद अंग्रेजों ने रुपए को आधिकारिक मुद्रा बनाया और इसे पूरे देश में लागू किया। 

अंग्रेजों से पहले कई और रजवाड़ों ने भी अपने-अपने नोट जारी किए थे। इसमें हैदराबाद का नाम प्रमुख तौर पर लिया जा सकता है। इसके अलावा गोआ में जहां पुर्तगाली सरकार की ओर से जारी किए गए नोट चलते थे, वहीं पुडुचेरी में फ्रांसीसी सरकार ने भी नोट जारी किया था। हालांकि आजादी के बाद जैसे ही ये इलाके भारत में मिले सब जगह भारतीय रुपया मान्य हुआ जो आज भी जारी है।

बदलते दौर के साथ नोटों की तस्वीरें भी बदलती गईं। अंग्रेजों के दौर में इन नोटों पर जार्ज पंचम और क्वीन विक्टोरिया की तस्वीरें होती थीं, जबकि आजादी के बाद इन नोटों पर महात्मा गांधी से लेकर अशोक स्तंभ की तस्वीरें नजर आती रहीं।

ऐसे बदलते गए नोट...

- 1938 में अब तक का सबसे बड़ा नोट 10 हजार रुपए का छापा था।

- 1946 में इसे चलन से बाहर कर दिया गया।

- जनवरी, 1946 से पहले तक 1000 और 10 हजार रुपए के बैंक नोट चलन में थे।

- फिर 1954 में 1000, 5000 और 10,000 रुपये के नोटों को दोबारा लाया गया।

- जनवरी 1978 में सभी को बंद कर दिया गया।

- नवंबर, 2000 में 1000 रुपए के नोट की फिर वापसी हुई

- 1967-92 के बीच 10 रुपए के नोट जारी हुए, 

- 1972-75 के बीच 20 रुपए

- 1975-81 के बीच  50 रुपए

- 1967-79 के बीच  100 रुपए के नोट आए

- 1987 में अशोक स्तंभ सीरीज वाले नोट अक्टूबर

- 1996 में महात्मा गांधी सीरीज वाले नोट छापे गए