हिंगोनिया गोशाला में फिर 3 दिन में 149 गायों की मौत, पेट से निकल रही है प्ला‍स्टिक की थैलियां

श्रीवत्सन, जयपुर (29 अगस्त): राजस्थान में सरकार के तमाम दावों के बावजूद भी हिंगोनिया गोशाला में गायों के मरने के सिलसिला थमने का नाम नहीं रहा है। यहां पर पिछले तीन दिन में ही 150 से भी अधिक गायों ने अपना दम तोड दिया। यही नहीं सरकारी दावें भले ही कुछ भी हो, लेकिन आज भी यहां कीचड़ और अव्यवस्थाओं का अंबार हैं, जो की इनकी जान पर भारी पड़ रहा है।

हिंगोनिया गोशाला में पिछले महीने एक हफ्ते में ही 500 गायों ने दम तोड़ दिया था। तब इसे लेकर खूब बवाल मचा...

- पिछले तीन दिनों में ही 150 से भी अधिक गायों ने दम तोड़ दिया। - इस गौशाला में अब भी औसत रोजाना 50 गायें रोज अपना दम तोड़ रही है। - वह भी तब जब राज्य सरकार ने अपने दो मंत्री, डिवीजन कमिश्नर, कलेक्टर, और अन्य अधिकारियों को गोशाला की व्यवस्थाएं सुधारने लगा रखा है। - हालात ये हैं कि एक सप्ताह में 338 गाय बछड़ों की मौत हो चुकी है और सरकारी मशीनरी गायों की मौत रोकने में नाकाम साबित हो रही है।

एक सप्ताह में किस दिन कितनी गायें मरी... - 20 अगस्त से 27 अगस्त तक हिंगोनिया गौशाला में 338 गायों की मौत हो चुकी है। - 20 अगस्त को 33 - 21 अगस्त को 40 - 22 अगस्त को 26 - 23 अगस्त को 48 - 24 अगस्त को 41 - 25 अगस्त को 39 - 26 अगस्त को 68 - 27 अगस्त को 43 - 28 अगस्त को 40

अब से पहले आम दिनों में निगम अफसरों के मुताबिक 20 से 25 गायों की मौत होती थी। लेकिन गौशाला के अधिकारी कह रहे हैं कि बीमार गायें ही अपना दम तोड़ रही है, लेकिन उनके पास इसका कोई जवाब नहीं है। गौशाला में ही आधा दर्जन पशु चिकित्सक और 15 से भी ज्यादा दुसरे पशु चिकित्साकर्मी तैनात है।

गायों के पेट से निकल रही हैं प्ला‍स्टिक... - हर गाय के पेट में से 20 किलो से 80 किलो प्लास्टिक निकल रही है। - बीमार गायों के पेट से कम से कम 250 ग्राम लोहे की कीलें, ब्लेड, कोल्ड ड्रिंक्स के ढक्कन और सिक्के निकल रहे हैं।