म्यांमार में एक गड्ढे से मिला 45 हिंदुओं का शव

नई दिल्ली(28 सितंबर): रिका धार ने अपने पति, दो भाइयों और अनगिनत पड़ोसियों को अपनी आंखों के सामने मौत का शिकार होते देखा है। इन लोगों की हत्या तब हुई जब नकाब पहने कुछ लोगों ने म्यांमार में एक हिंदू गांव में हमला किया। बांग्लादेश में एक हिंदू कैंप में अपने दो बच्चों के साथ रह रही 25 साल की धार ने कहा कि हत्या के बाद, हत्यारों ने तीन बड़े गड्ढों को खोदा और उन्हें अंदर फेंक दिया। धार ने कहा कि उनके हाथ उनके पीछे बांध दिए गए थे और उनकी आंखों पर पट्टी बांध दिया गया था। 

- प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि उत्तरी राखीन राज्य के खा मोंग सेिक के उनके एक छोटे स हिंदू गांव के बाहर खून खराबा हुआ था। जहां म्यांमार के अधिकारियों ने रविवार से बड़े पैमाने पर कब्र से 45 शवों को निकाला है। 

- सेना की रिपोर्ट के मुताबिक, गांव के अब भी 48 हिंदू लापता हैं और इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि इन्हें भी रोहिंग्या आतंकियों द्वारा कत्ल कर दिया गया है। सेना इलाके में सर्च अभियान चला रही है।

- म्यांमार सेना प्रमुख की वेबसाइट पर जारी बयान के मुताबिक, ‘रखाइन राज्य में सुरक्षा कर्मियों को 45 हिंदुओं के शव मिले हैं, जिनका एआरएसए अतिवादी बंगाली आतंकवादियों द्वारा कत्ल किया गया।’ 

- म्यांमार सेना के अनुसार हजारों हिंदू उन गांवों से भाग चुके हैं,जहां वो रह रहे थे, क्योंकि रोहिंग्या आतंकवादियों द्वारा इन्हें निशाना बनाया जा रहा है।

- हाल ही में म्यांमार से भागकर बांग्लादेश में रिफ्यूजी बनने वाले हिंदू परिवारों ने भी रोहिंग्या मुसलमानों के आतंकी गुट पर नरसंहार के आरोप लगाए थे।

- इन घटनाओं के बाद म्यांमार की आर्मी ने एक्शन लिया। अब रोहिंग्याओं को यहां से निकाला जा रहा है। हालांकि, दिक्कत की बात ये है कि भारत समेत कई देश इन्हें अपने देश में रिफ्यूजी का दर्जा देने के लिए तैयार नहीं हैं।

- म्यांमार से भागे ज्यादातर लोग बांग्लादेश पहुंच रहे हैं। क्योंकि, म्यांमार और बांग्लादेश के बीच दूरी काफी कम है। इन लोगों ने म्यांमार की आर्मी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कई संगठन म्यांमार आर्मी की कार्रवाई को ज्यादती बता रहे हैं। 

- दूसरी ओर, म्यांमार आर्मी का कहना है कि उसने सिर्फ उन रोहिंग्याओं के खिलाफ कार्रवाई की है, जो आतंकी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। उसका आरोप है कि ये आतंकी संगठन सिर्फ हिंदुओं और बौद्धों को निशाना बना रहे हैं।