बांग्लादेश में फिर अल्पसंख्यकों पर हमला, दिवाली पर 15 मंदिरों और घरों में तोड़फोड़, सहमे हुए हैं बांग्लादेश के हिंदू

डॉ. संदीप कोहली

नई दिल्ली (31 अक्टूबर):  बांग्लादेश में एक बार फिर हिंदू समुदाय पर हमला हुआ है। हमला दिवाली की रात चटगांव के जिले ब्रह्मिणबरिया में हुआ। बांग्लादेशी मीडिया के मुताबिक हमले में 15 मंदिरों को तोड़ा गया और 200 से ज्यादा हिंदुओं के घरों को नुकसान पहुंचाया गया। कई लोगों ने लूटपाट की शिकायत भी की है। बांग्लादेशी अखबार डेली स्टार को स्थानीय पुलिस अधिक्षक ने बताया कि हमला तब हुआ जब कुछ संगठन मक्का स्थित मस्जिद अल-हरम के ऊपर की गई एक फेसबुक पोस्ट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। हिफाजत-ए-इस्लाम और अहले सुन्नत के कार्यकर्ताओं समेत हजारों लोगों ने ब्रह्मिणबरिया के नासिरनगर में रविवार को अलग-अलग विरोध रैली निकाली। प्रदर्शनकारी फेसबुक पोस्ट लिखने वाले को मौत की सजा देने की मांग कर रहे थे। करीब 150-200 लोगों ने पांच मंदिरों की सात-आठ मूर्तियां तोड़ दीं। दो लोग इस दौरान घायल हो गए और पुलिस ने छह लोगों को हिरासत में लिया है। करीब 500 अज्ञात लोगों पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। ब्रह्मिणबरिया के पुलिस अधीक्षक मिजानुर रहमान ने अखबार को बताया कि पुलिस ने हालात पर काबू पा लिया है और इलाके में शांति व्यवस्था बहाल हो चुकी है। पुलिस दोषियों को गिरफ्तार करने के लिए छापे भी मार रही है। बहरहाल अभी तक बताया जा रहा है कि पुलिस ने 200 लोगों के खिलाफ मामला भी दर्ज किया है। इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बल, रैपिड एक्शन बटालियन और पैरामिलिट्री बॉर्डर गॉर्ड, बांग्लादेश के जवानों को तैनात किया गया है। बांग्लादेश में हिंदुओं पर बड़े हैं हमले... - जून 2016 में चार हिंदू पुजारियों की हत्याएं हो चुकी हैं। - हिंदू आश्रम हेमायतपुरधाम के कर्मचारी नित्यारंजन पांडे की हत्या - जून में ही हिंदू पुजारी आनंद गोपाल गांगुली की हत्या। - पिछले कुछ महीनों में अल्पसंख्यकों, सेक्युलर ब्लॉगर्स पर हमले के मामले बढ़े हैं। - अब तक इस्लामिक कट्टरपंथियों के हमले में 40 लोगों की मौत हो चुकी है। - फरवरी में कट्टरपंथियों ने एक मंदिर के हिंदू पुजारी की चाकू मारकर हत्या कर दी थी। - अप्रैल में हथियार से लैस आईएस आतंकियों ने एक उदारवादी प्रोफेसर की हत्या कर दी थी। - अप्रैल में ही आईएस आतंकियों ने एक हिंदू दर्जी की उसकी दुकान पर हत्या कर दी थी। - दिसंबर 2015 में दिनाजपुर जिले में हिंदू मंदिर पर हमला, मेले में फेंके गए देसी बम। - 2014 में हिंसा के चलते 2000 हिंदूओं को अपना घर छोड़ने पर होना पड़ा मजबूर। - 2013 में बांग्लादेश में 50 मंदिरों और 1500 हिंदुओं के घर में तोड़फोड़ की गई थी। बांग्लादेश में हिंदू... - दुनिया में हिंदू आबादी वाले तीन सबसे बड़े देशों में बांग्लादेश आता है। - भारत और नेपाल के बाद बांग्लादेश है जहां डेढ़ करोड़ हिंदू आबादी है। - 1947 बंटवारे के वक्त बांग्लादेश को पूर्वी पाकिस्तान कहा जाता था। - 1947 में पूर्वी पाकिस्तान (बांग्लादेश)में हिंदू आबादी करीब 28 फीसदी थी। - बांग्लादेश बनने के बाद पहली जनगणना 1981 में हिंदू आबादी सिर्फ 12 फीसदी रह गई। - 2011 में जो जनगणना हुई है उसके मुताबिक आबादी 9 फीसदी से भी कम रह गई है। - 1947 के बाद से बांग्लादेश में करीब 30 लाख हिंदुओं की हत्याएं की गई। - 1971 में बांग्लादेश में आजादी की लड़ाई के दौरान हिंदुओं का नरसंहार किया गया। - इस दौरान हिंदू पुरुषों की हत्याएं, महिलाओं का बलात्कार, मंदिरों में तोड़फोड़ हुई थी। - 1971 की लड़ाई के दौरान भारत में शरण लेने वाली 60 फीसदी आबादी हिंदूओं की थी। - 2013-2014 में बांग्लादेश के 20 जिलों में हिंदू विरोधी प्रदर्शन हुए। - हिंसा में करीब 50 हिंदू मंदिर और 1500 हिंदुओं के घर तबाह कर दिए गए। - अनुमान के मुताबिक पिछले 10 वर्षों में 10 लाख से भी ज्यादा हिंदू आबादी गायब हो गई। - 1947 में पाकिस्तान में 15 फीसदी हिंदू आबादी 1998 में घटकर सिर्फ़ 1.6 फीसदी रह गई। - 1947 में बांग्लादेश में 28 फीसदी हिंदू आबादी 2011 में घटकर सिर्फ़ 8.5 फीसदी ही रह गई।