इस स्‍कूल में हिंदू बच्‍चे पढ़ते हैं कुरान, मुस्लिम गीता

शिवप्रकाश, मेरठ (18 फरवरी): देश में जहां धर्म के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच कुछ लोग तलवार खींचे रहते हैं। वहां एक स्कूल के बच्चे ऐसे भी हैं जिनसे लोगों को धर्मनिरपेक्षता और सद्भावना सीखनी चाहिए। जी हां, मेरठ का एक स्कूल है जहां हिंदू बच्चों को कुरान और मुस्लिम बच्चों को गीता सिखाई जाती है। धर्म की आड़ में झगड़ने वालों के बीच ऐसी खबरें सुकून देती हैं।

मेरठ के इस स्कूल की खासियत ही ये है कि यहां हर धर्म के बच्चे हर धर्म कि शिक्षा हासिल करते हैं। स्कूल में पढ़ने वाली 8 साल की रिदा जेहरा आज जब गीता के श्लोक का पाठ करती है तो उसके माता-पिता फूले नहीं समाते हैं। इतनी छोटी सी उम्र में रिदा को गीता कंठस्थ है और रिदा की इसी खूबी के चलते सिर्फ मेरठ में ही नहीं बल्कि कई और राज्यों में कई अवॉर्ड दिए जा चुके हैं।

ठीक रिदा की तरह ही लॉरेन्द्र भी कुरान को याद कर रहा है। लॉरेन्द्र ने अभी इस स्कूल में एडमिशन ही लिया है लेकिन वो कुरान को पढ़कर बेहद खुश है। जाहिर है हिंदू मुसलमान के नाम पर भेदभाव करने वाले लोगों को कुछ सीख लेने की जरुरत है। गीता के श्लोक और कुरान की आयतों के नाम पर विरोध दर्ज कराने वाले राजनीतिक लोगों को भी इन बच्चों से कुछ सीखना चाहिए। क्योंकि जिस तरह से इन बच्चों ने आंखों की रोशनी न होते हुए भी ऐसी मिसाल कायम की है। वैसे ही आम लोगों को भी आंखों पर बंधी जात पात की पट्टियों को हटाने की जरुरत है।

देखिए पूरी रिपोर्ट:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=C5U_vapg0R8[/embed]